HARIDWAR NEWS

Big breaking:-यहाँ अस्थि विसर्जन को लेकर क्यों हंगामा खड़ा हुआ है , क्यों हैं तीर्थ पुरोहित नाराज

उत्तराखंड संस्कृत अकादमी की मुक्ति योजना का विरोध बढ़ता जा रहा है। श्रीगंगा सभा के बाद अब विश्व हिंदू परिषद और अखिल भारतीय तीर्थ पुरोहित सहायक सभा ने भी योजना का विरोध किया है।

उत्तराखंड संस्कृत अकादमी की ओर से अस्थि विसर्जन को लेकर मुक्ति योजना की शुरूआत की करने की तैयारी की जा रही है। योजना के तहत देश और विदेश में बैठे लोग अपने परिजनों की अस्थियों का विसर्जन अकादमी के माध्यम से करवा सकते हैं। कर्मकांड का लाइव प्रसारण की भी योजना है।

विश्व हिंदू परिषद के जिलाध्यक्ष नितिन गौतम ने कहा संस्कृत अकादमी के सचिव अपनी मर्यादा भूल गए हैं। अच्छा होगा कि वह अपनी मर्यादा में रहें और जो कार्य उनको सौंपा गया है उसको इमानदारी से करें।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-अब अपने इस बयान के कारण सांसद अनिल बलूनी के निशाने पर आए हरीश रावत , बलूनी ने बयान को बताया दुर्भाग्यपूर्ण

उन्होंने कहा कि तीर्थ की मर्यादा, तीर्थयात्री और तीर्थ पुरोहितों के अधिकारों की रक्षा के लिए विश्व हिंदू परिषद संकल्पबद्ध है। किसी को भी तीर्थ की मर्यादा और परंपराओं से छेड़छाड़ करने का अधिकार नही है।

 

तीर्थ पुरोहित उज्ज्वल पंडित ने कहा यह पुरोहितों के परंपरागत अधिकारों पर कुठाराघात करने का प्रयास है। उन्होंने कहा कि संस्कृत विद्यालयों की स्थिति बहुत खराब है। वहां विद्यार्थियों का अकाल है और संस्कृत अकादमी के सचिव मुक्ति योजना चला कर अस्थिप्रवाह करवा कर धन अर्जित करना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-ऊर्जा निगम में गजब हालात , ऊर्जा निगम के डायरेक्टर फाइनेंस सुरेंद्र बब्बर ने इस्तीफ़ा दिया इस्तीफा , जमकर चल रही निगम में राजनीति

 

संस्कृत अकादमी की मुक्ति योजना का श्रीगंगा सभा ने विरोध किया है। गंगा सभा के अध्यक्ष प्रदीप झा ने कहा कि तीर्थ पुरोहित समाज आदि अनादि काल से अस्थि प्रवाह का कार्य करता चला आ रहा है। केवल कुल पुरोहित ही अस्थि प्रवाह का अधिकार रखता है।

श्रीगंगा सभा के अध्यक्ष प्रदीप झा ने कहा कि अकादमी को तत्काल अपने निर्णय को वापस लेना चाहिए। तीर्थ पुरोहित के अधिकारों का हनन, उल्लंघन किसी भी सूरत में बरदाश्त नहीं किया जाएगा। केवल तीर्थ पुरोहित ही पौराणिक काल से अस्थि प्रवाह व अन्य धार्मिक कर्मकांड करते चले आ रहे हैं।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-स्टाफ नर्स चयन प्रक्रिया फिर शुरू , शासन ने दिए निर्देश, इस बार चिकित्सा सेवा चयन बोर्ड कराएगा परीक्षा

प्रदीप झा ने कहा कि संस्कृत अकादमी को संस्कृत के प्रचार-प्रसार व उसके संवर्द्धन के लिए काम करना चाहिए। इस तरह की घोषणा करना तीर्थ पुरोहित समाज की भावनाओं को आहत करने वाली है। वर्षों से परंपराओं का निर्वहन तीर्थ पुरोहित समाज करता चला आ रहा है।

 

Ad
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top