HARIDWAR NEWS

Big breaking:-Youtube देख अपराध को दे रहे अंजाम , अब यहाँ नशे की लत को पूरा करने के लिए 3 दोस्त छापने लगे नकली नोट

रुड़की। नशे की लत पूरी करने के लिए तीन दोस्त नकली नोट छापकर बाजार में चलाने लगे। तीनों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों के पास से करीब ढाई लाख रुपये के नकली नोट बरामद हुए हैं। पुलिस ने तीनों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया। पुलिस पता लगा रही है कि तीनों ने अब तक बाजार में कितनी नकली रकम चलाई है।

 

शनिवार को सिविल लाइंस कोतवाली में सीओ विवेक कुमार ने प्रेसवार्ता कर बताया कि एसएसपी डॉ. योगेंद्र सिंह ने रुड़की क्षेत्र में आपराधिक गतिविधियों में शामिल लोगों की धरपकड़ करने के निर्देश दिए हैं। खासकर गंगनहर कोतवाली क्षेत्र में अपराधियों पर कड़ी नजर रखने के निर्देश दिए थे। इस बीच पुलिस को सूचना मिली कि पाड़ली गुर्जर और तेलीवाला रेलवे फाटक के आसपास अपराधी सक्रिय हैं।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-बीजेपी सरकार में मंत्री बनकर क्यों पछता रहे हरक कह दी ये बड़ी बात

दोनों जगह नजर रखने के लिए पुलिस की चार टीमें लगाई गईं। सूचना मिली कि तेलीवाला रेलवे फाटक के पास कुछ युवक नकली नोट की खेप लेकर आ रहे हैं। पुलिस ने युवकों को पकड़ने के लिए जाल बिछाया। एक बाइक पर तीन युवक आते दिखे तो पुलिस ने रुकने का इशारा किया। पुलिस को देखकर तीनों बाइक मोड़कर भागने की कोशिश करने लगे।

 

पुलिस ने पीछा कर तीनों को पकड़ लिया।पूछताछ में तीनों ने अपना नाम विकास उर्फ विक्की निवासी कृष्णानगर, रुड़की, जौनी कुमार निवासी हनुमान कॉलोनी-431 चाव मंडी, रुड़की और अनुज प्रताप निवासी मकान नंबर-आठ आवास विकास कॉलोनी, रुड़की बताया। तीनों के पास से पुलिस ने दो हजार, पांच सौ, दो सौ के नकली नोट बरामद किए। सीओ ने बताया कि तीनों के पास से दो लाख 47 हजार की रकम बरामद की है। पूछताछ में तीनों ने बताया कि वे नशे के आदी हैं और घर से मिलने वाले जेब खर्च से उनका शौक पूरा नहीं होता पाता था। इस पर वे घर से कीमती सामान चोरी कर भी बेचने लगे। इस बीच उन्होंने नकली नोट छापने की योजना बनाई। तीनों ने मिलकर एक कलर प्रिंटर खरीदा और नकली नोट छापने शुरू कर दिए।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने की घोषणा अगर आपदा पर राहत नहीं मिली जनता को तो 28 अक्टूबर को कांग्रेस करेगी प्रदेश भर में उपवास

यू ट्यूब पर सीखा नकली नोट छापना
पुलिस पूछताछ में सामने आया है कि तीनों ने यू ट्यूब पर नकली नोट छापने का तरीका सीखा। इसके बाद नकली नोट छापने के लिए कलर प्रिंटर खरीदा था। तीनों दोस्त नकली नोट अनुज प्रताप के घर पर छापते थे। यहीं से बाजार में चलाते थे।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-उत्तराखंड में one डिस्ट्रिक्ट two प्रोडक्ट योजना की हुई शुरुआत , धामी सरकार ने शासनादेश किया जारी

ब्लैक बेल्ट जीत चुका है अनुज
सीओ विवेक कुमार ने बताया कि तीनों में सबसे अधिक पढ़ा लिखा अनुज प्रताप है। वह बीकॉम की पढ़ाई कर रहा है। साथ ही ताइक्वांडो में ब्लैक बेल्ट जीत चुका है। विकास और जौनी कम पढ़ेलिखे हैं। तीनों में स्कूल के समय से ही गहरी दोस्ती रही है।


पुलिस टीम में ये रहे शामिल
कोतवाली प्रभारी अमरजीत सिंह, एसएसआई संतोष पैंथवाल, एसआई सुनील रमोला, सिपाही हरि सिंह, हसन जैदी, मनोज, संदीप और चेतन सिंह।

Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top