UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-दिल्ली – देहरादून एक्सप्रेस वे का काम अब जल्द ही होगा शुरू , ये है बड़ा Update

सहारनपुर-देहरादून इकोनॉमिक कॉरिडोर से होकर बनने वाले दिल्ली देहरादून एक्सप्रेस वे का काम अब जल्द ही अमल में आएगा क्योंकि केंद्र सरकार ने इसके ​लिए 2095 करोड़ रुपये की राशि मंज़ूर कर दी है. 6 लेन एक्सेस कंट्रोल्ड इस हाईवे को दिल्ली से उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड की सीमाओं में बनना है, जो भारतमाला परियोजना का हिस्सा है.

 

 

 

 

केंद्र ने इस एक्सप्रेस वे से हरिद्वार को कनेक्ट करने के लिए 6 लेन रोड के निर्माण हेतु राशि स्वीकृत की. यह एक्सप्रेस वे कई मायनों में खास होगा और खासकर उत्तराखंड आने या जाने वाले यात्रियों के लिए यह किसी सपने के सच होने जैसा होगा क्योंकि दिल्ली से देहरादून की दूरी इससे करीब 4 घंटे तक कम हो जाएगी.कैसे होने वाला है हर फेज़ में निर्माण?
एक्सप्रेस वे को चार फेज में डेवलप किया जा रहा है. तीसरे फेज में सहारनपुर बाईपास से गणेशपुर के बीच 40 किमी बनाया जाएगा. चौथे फेज़ में गणेशपुर से आगे देहरादून तक निर्माण होगा. इसकी लम्बाई करीब 19 किलोमीटर होगी. गणेशपुर से देहरादून के बीच एक्सप्रेस वे का ज्यादातर हिस्सा राजाजी नेशनल पार्क की सीमा से होकर गुज़रेगा. इसको देखते हुए यहां पर करीब पांच किमी लंबा फोर लेन एलिवेटेड फ्लाईओवर बनाया जाएगा. मौजूदा समय में यहां सड़क की चौड़ाई बेहद कम तो है ही, ढलान और तीव्र मोड़ होने के कारण जाम और दुर्घटना का खतरा बना रहता है.हाइब्रिड वार्षिकी मॉडल के अनुसार इस एक्सप्रेस वे का निर्माण किया जाएगा. इस दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेस वे के बारे में कुछ बेहद खास फीचर आपको जानने चाहिए, जो सीधे यात्रा के साथ जुड़े हैं.

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-मुख्यमंत्री धामी की बड़ी घोषणा , अब इस अनुपात में होगा यूपी उत्तराखंड के बीच परिसम्पतियों का बंटवारा

 

 

 

 

 

 

. दिल्ली से देहरादून के बीच की 235 किलोमीटर की दूरी इस हाईवे से 210 किलोमीटर रह जाएगी लेकिन यह इतना तेज़ होगा कि सफर में समय 6.5 घंटे के बजाय 2.5 घंटे ही लगेगा.2. इस रास्ते पर 25 किलोमीटर की एलिवेटेड रोड होगी और 14 सुरंगें और यह 6 लेन रास्ता साफ जंगलों के हसीन नज़ारों के बीच से होकर गुज़रेगा.3. इस पूरे एक्सप्रेस वे को इस तरह डिज़ाइन किया जाएगा कि यहां वाहनों की कम से कम रफ्तार 100 किमी प्रति घंटा रहे.4. इस एक्सप्रेस वे पर वन्यजीवों की सुरक्षा के लिहाज़ से 12 किमी की एलिवेटेड रोड बनाई जा रही है, जो देश में पहली बार हो रहा है.

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-एशिया के सबसे बड़े वन्यजीव एलिवेटेड कॉरिडोर का उत्तराखंड को मिलने जा रहा तोहफा , जानिए क्या होगी खूबियां

 

 

 

 

 

उत्तराखंड के लिए कैसे है यह विकास की राह?
इस एक्सप्रेस वे के बनने से उत्तराखंड की इकॉनमी को बूम मिलने की संभावना है इसलिए इसे दिल्ली देहरादून ईकोनॉमिक कॉरिडोर नाम भी दिया गया है. माना जा रहा है कि एक्सप्रेस वे के बनने के बाद उत्तराखंड के टूरिज़्म को पंख लग जाएंगे. उत्तराखंड के मसूरी, धनोल्टी, हर्षिल जैसे हिल स्टेशनों पर टूरिस्ट आसानी से पहुंच सकेंगे. एक्सप्रेस वे से हरियाणा और पंजाब के लोगों को भी फायदा होगा. देहरादून से हरिद्वार के बीच पहले ही फोर लेन हाईवे बनकर तैयार हो चुका है. यानी एक्सप्रेस वे के बनने से हरिद्वार तक पहुंचना भी आसान हो जाएगा.

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-केंद्र सरकार ने दी सरकारी कर्मचारियों को एक बड़ी खुशखबरी और दी एक झटके वाली खबर

 

 

 

 

 

 

लेकिन अटका हुआ है पेंच, सुप्रीम कोर्ट तक हो रही है सुनवाई
उत्तराखंड में राजाजी पार्क और देहरादून वन प्रभाग से लगे करीब चार किलोमीटर हिस्से में अभी पेंच फंसा हुआ है. यूपी की सीमा डाटकाली मंदिर से उत्तराखंड में आशारोड़ी तक चार किलोमीटर का हिस्सा राजाजी पार्क और देहरादून वन प्रभाग के बीच से गुज़रता है. इस चार किमी हिस्से में ढाई हजार पेड़ काटे जाने हैं, जिनमें 1600 साल पुराने पेड़ भी शामिल हैं. इस पर पर्यावरण प्रेमियों को आपत्ति है और यही मामला हाईकोर्ट में चल रहा है. इतने बड़े पैमाने पर पेड़ काटे जाने पर एनजीटी भी ऐतराज़ जता चुका है. मामला सुप्रीम कोर्ट में भी विचाराधीन है. देहरादून वन प्रभाग के डीएफओ राजीव कुमार धीमान का कहना है कि कोर्ट से हरी झंडी मिलने के बाद ही पेड़ कटाई को अनुमति दी जा सकेगी.

Ad
Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top