UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-देहरादून में रहने वाले अफगानी राजपरिवार के लोग अफगानिस्तान की स्थिति देखकर क्यों है मायूस , क्या की विश्व बिरादरी से मांग

अफगानिस्तान में दिन-ब-दिन बदतर होते जा रहे हालात के बीच अफगानी अपनी जान बचाने के लिए भाग रहे हैं वहां के सत्ता तालिबानी हाथों में जाने के बाद से ही हर काबुली वाले को सबसे बड़ी चिंता बाकी महिलाओं और अपनों की हो रही है

चिंता में आजकल वो भी हैं जो देहरादून में रहते हैं , अफगान बादशाह की चौथी पीढ़ी के सदस्य जो वर्तमान में देहरादून रहते हैं अपनों की सुरक्षा के लिए भारत सरकार से मदद की गुहार लगा रहे हैं  बादशाह दोस्त अमीर याकूब खान के चौथी पीढ़ी के सदस्य सरकार अकबर खान अपने परिवार के साथ देहरादून में राजपुर रोड पर रहते हैं उनकी चचेरी बहन सोहेला करजई  अफगान सरकार में जनरल रह चुकी है

अफगान के हालात को देखते हुए खान परिवार भारत समेत विश्व के सभी देशों से उम्मीद कर रहा है कि वहां जल्द हालात सामान्य किए जाएं परिवार के सदस्य मोहम्मद अली ने कहा कि तालिबान के हाथ सत्ता लग चुकी है

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-कुमाऊँ का ये महत्वपूर्ण मार्ग छोटे वाहनों के लिए खुला ,

ऐसे में जरूरत है वहां अमन चैन बना रहे हालांकि उन्हें इसकी उम्मीद बेहद कम है उन्होंने कहा कि वर्तमान में उपजे हालात से उनका परिवार बेहद आहत है चिंतित है

मोहम्मद अली खान ने कहा कि आज विश्व को अफगानिस्तान की मदद करनी चाहिए खासकर वहां रहने वाली बच्चियों महिलाओं की सुरक्षा बेहद अहम है अली कहते हैं लोगों को अच्छी तरह पता है कि तालिबानी उनके साथ कैसा व्यवहार करते हैं उनके मुताबिक तालिबान की निष्ठा अफगानिस्तान से ज्यादा पाकिस्तान के प्रति है इस खेल में केंद्रीय भूमिका भी पाकिस्तान की रही

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-यहाँ हो गया बडा हादसा , CETP प्लांट में तीन लोगों की हो गई मौत

उन्होंने आरोप लगाया कि अब चीन पाकिस्तान का साथ दे रहा है इस कारण इस बार की स्थिति 90 के दशक के मुकाबले ज्यादा जटिल हो चुकी है उनके मुताबिक वह इस निराशा भरे माहौल में इतनी उम्मीद करते हैं कि दुनिया के संपर्क में आने के बाद पहली बार इस बार ओसामा बिन लादेन की पनाह देने वाली जैसी गलती नहीं करेगा

फिर भी मूल रूप से एक तस्कर गिरोह  लड़ाकों के हाथ में पूरा देश आज आने के खतरे पूरी दुनिया को उठाने ही होंगे

अब बता दे दून में बासमती लाने का श्रेय अफगानों को ही जाता है पहले अफगान युद्ध के बाद ब्रिटिश फौजों ने 1839 में तत्कालीन बादशाह दोस्त मोहम्मद खान को मसूरी में निर्वासित कर दिया था वापस अफगानिस्तान लौटने से पहले खान करीब ढाई साल देहरादून मसूरी मे रहा

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने की घोषणा अगर आपदा पर राहत नहीं मिली जनता को तो 28 अक्टूबर को कांग्रेस करेगी प्रदेश भर में उपवास

दूसरे अफगान युद्ध के बाद उनका परिवार 1976 में फिर देहरादून लौट आया खान के वंशज मोहम्मद अली खान बताते हैं कि इस दौरान बादशाह के साथ ही सबसे पहले अफगानी बासमती देहरादून पहुंची और फिर देहरादून की मिट्टी में रच बस कर देहरादून की होकर रह गई देहरादून और मसूरी में बाला हिसार एस्टेट बादशाह परिवार का ही है देहरादून में सर्वे चौक के पास की  जमीने भी एक वक्त बादशाह परिवार के नाम ही थी।

Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top