Delhi news

Big breaking:-क्यों निशंक और सिंधिया के बीच चल रही एक बंगले को लेकर खींचतान , क्यों सिंधिया इसी बंगले में रहने को अड़े है , वैसे बंगले के मामले में निशंक से झटका खा चुके हैं सिंधिया

मोदी सरकार के पूर्व और मौजूदा मंत्री के बीच एक बंगले को लेकर खींचतान शुरू हो गई है। हाल ही में कैबिनेट से हटाए गए पूर्व शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने 27 सफदरजंग रोड पर स्थित बंगले को खाली करने से इनकार कर दिया है। मंत्री के तौर पर उन्हें यह बंगला मिला था, जिसे उनको अब नियमों के मुताबिक एक महीने में खाली करना था।

लेकिन वह इसी में बने रहना चाहते हैं और कहा जा रहा है कि उन्हें डायरेक्टोरेट ऑफ एस्टेट्स से इसकी परमिशन भी मिल गई है। लेकिन बात यहां आकर फंस गई है कि इसी बंगले में नए नागरिक उड्डयन मंत्री बने ज्योतिरादित्य सिंधिया रहना चाहते हैं।

सफदरजंग के मकबरे के पास लुटियन दिल्ली में स्थित इस बंगले पर सिंधिया परिवार लंबे समय से रहता रहा है। खुद ज्योतिरादित्य सिंधिया भी 2019 में लोकसभा चुनाव हारने तक इसी बंगले में रह रहे थे। इससे पहले उनके पिता माधवराव सिंधिया भी यहीं सालों तक रहे। यहां तक कि उन्होंने इसी बंगले पर अंतिम सांस ली थी।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-21 सितंबर से 1 से 5वी तक के स्कूल खुलेंगे , Guideline की गई जारी

कहा जा रहा है कि इसी के चलते सिंधिया का इस बंगले से खास लगाव है और वे इसमें ही शिफ्ट होना चाहते हैं। बीते साल जब वह बीजेपी में शामिल हुए तो उन्हें तीन बंगलों का ऑफर दिया गया, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-देहरादून में स्मार्ट सिटी के काम से विधायक नाराज , अधिकारियों पर मुकदमा दर्ज कराने की मांग की


फिलहाल वह आनंद लोक में स्थित अपने निजी आवास में ही रह रहे हैं। 1980 में माधवराव सिंधिया को राजीव गांधी की कैबिनेट में मंत्री बनाया गया था। तब उन्हें यह बंगला मिला था और यहीं वह अपनी मीटिंग्स करते थे। बता दें कि नेताओं के बीच बंगलों को लेकर इस तरह का आग्रह नया नहीं है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-हरिद्वार में मारपीट का ये वीडियो जमकर हो रहा वायरल , ऐसे हो रहा पर्यटकों का स्वागत

हाल ही में एलजेपी के नेता चिराग पासवान को भी उनके उस घर को खाली करने का आदेश दिया गया था, जिसमें बतौर मंत्री रामविलास पासवान रहा करते थे। चिराग पासवान ने इसमें बने रहने के लिए गुहार भी लगाई थी, लेकिन अंत में उन्हें इसके लिए आदेश दिया गया है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top