UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-कौन कहता है हाथी पहाड़ नहीं चढ़ सकता गढ़वाल के इस गाँव मे पहाड़ी पगडंडियों में दौड़ लगा रहा हाथी , सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा वीडियो

उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र का यह वीडियो इन दिनों वायरल हो रहा है जिसमें साफ देखा जा रहा है हाथी पहाड़ी गलियों में दौड़ता दिखाई दे रहा है यह गढ़वाल का इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि महिलाएं गढ़वाली भाषा में लोगों को चेतावनी दे रही है कि हाथी आ रहा है साफ है कहा जाता था कि हाथी पहाड़ नहीं चढ़ सकता लेकिन यहां तो हाथी पहाड़ चढ़  रहा है

 

जी हाँ उत्तराखंड (Uttarakhand) में किए गए एक सर्वे में पता चला है कि हाथी भी पहाड़ियों (Elephants) पर चढ़ सकते हैं। राज्य वन विभाग द्वारा पिछले हफ्ते हाथियों की आबादी का अनुमान लगाने के लिए किए एक सर्वे में किया था। जिसमें ये चौंकाने वाली बात सामने आईं।

पहले यह माना जाता रहा है कि हाथी (Elephants) हमेशा तराई इलाकों के निचले क्षेत्रों में ही पाए जाते हैं और वे पहाड़ों पर नहीं चढ़ सकते थे। लेकिन एक सर्वे में पता चला कि हाथी मध्य हिमालय इलाके मैं भी मौजूद थे। इसका मतलब वे पहाड़ियों पर भी आराम से चढ़ सकते हैं।
उत्तराखंड़ के मध्य हिमालय ( Elephants In Middle Himalayas )में पहले कभी हाथियों को नहीं देखा गया था। विशेषज्ञों का कहना है कि यह इशारा करता है कि हाथियों ने खाने और पानी की तलाश में तराई इलाकों से उच्च इलाकों की ओर बढ़ना शुरू कर दिया है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-प्रभावित परिवारों को शीघ्र मुआवजा दे रेलवेः डॉ. धनसिंह रावत , आरवीएनएल उच्च न्यायालय में दायर मामलों को लेगा वापस

वन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि हाथियों के प्राकृतिक आवास को जलवायु परिवर्तन और इंसानी हस्तक्षेप की वजह से बड़े पैमाने पर नुकसान हुआ है।
इस लिए हमने इनकी जनगणना के लिए एक सर्वे किया। पहले भी विभाग ने सर्वे किए हैं लेकिन अक्सर मैदानी इलाकों और तराई इलाकों जैसे हल्द्वानी रामनगर देहरादून के कुछ हिस्से लैंसडाउन और कॉर्बेट एंड राजाजी टाइगर रिजर्व में ही हाथियों की संख्या को गिनने का काम करते थे।
लेकिन इस सर्वे में वन विभाग ने पहली बार पहाड़ी इलाके जैसे अल्मोड़ा, नैनीताल, मसूरी, नरेंद्र नगर, चंपावत और कलासी को भी इस सर्वे में शामिल किया गया था।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-उधमसिंहनगर SSP ने किए ये बंपर तबादले

उन्होंने पाया कि शुरुआती नतीजों के आधार पर इस बात के पर्याप्त सबूत हैं कि पहाड़ी जंगली संभागों जैसे अल्मोड़ा मसूरी और नैनीताल में भी हाथियों की मौजूदगी देखी गई है।

Ad
Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top