UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-फ़ेसबुक पोस्ट के जरिए राहुल गांधी को बताना क्या चाहते हैं हरदा

कांग्रेस में युवा नेताओं के पार्टी को छोड़ने की कोशिशों के बीच अब कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने राहुल गांधी को संबोधित एक पोस्ट लिखा है जिसमें उन्होंने ताउम्र कांग्रेस में रहने की बात तो की है साथी महत्वकांक्षी युवा कांग्रेसी नेताओं पर भी सवाल खड़े किए साथ ही अपने संघर्ष की कहानी भी यहां सामने रखी

हरीश रावत ने फेसबुक पोस्ट पर लिखा कि#राहुल जी, हम भी राहुल हैं और जीवन की अंतिम सांस तक कांग्रेस का झंडा थाम करके खड़े रहने वाले लोग हैं। सुश्री सुष्मिता देव के तृणमूल का दामन थामने से मुझे न आश्चर्य हुआ, न दु:ख हुआ। ये कुछ अंग्रेजी दां, कंप्यूटर दां, सुविधाओं के आदि हैं इनको जहां अच्छा पद मिला, ये वहां भागने वाले लोग हैं। ये #हरीश_रावत नहीं हैं, 2002 में पार्टी ने ना कहा तो पार्टी का झंडा थाम करके खड़ा रहा, 2007 में बहुमत बना लिया था जोड़-तोड़ से ही सही, दिल्ली से पार्टी ने बयान जारी किया कि मैंडेट भाजपा के पक्ष में है, कांग्रेस जोड़-तोड़ की राजनीति नहीं करती है, हमने अपने साथ खड़े लोगों को कहा आप स्वतंत्र हैं, हमारे साथ रहना चाहें या जहां चाहें, भाजपा की सरकार बनी।

2012 में CLP व PCC अध्यक्ष भी अपनी-2 सीटों पर संघर्ष में जुटे रहे, हरीश रावत हेलीकॉप्टर लेकर गाढ़-गधेरे, दांडे-कांडों में चुनाव प्रचार में जुटा रहा। मुख्यमंत्री चयन की बात आई तो मुझसे एक शब्द पूछा तक नहीं गया, 2014 में भी हिमालयन त्रासदी के बाद पुनर्वास और पुनर्निर्माण का सवाल नहीं होता तो शायद मैं आज भी मुख्यमंत्री नहीं होता लेकिन मैं मुख्यमंत्री बना, कांग्रेस ने बनाया हमेशा उसका ऋणी रहूंगा और इस समय भी कोरोना से बुरी तरीके से संतप्त शरीर को लेकर के भी कांग्रेस की आवाज बुलंद कर रहा हूंँ।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-जब देहरादून के DM पहुँचे इस दूरस्थ गाँव , गाँव वालो ने ढोल बजाकर उनका स्वागत किया

आप युवाओं को जोड़ने का अपना अभियान मत छोड़िये, उससे हतोत्साहित नहीं होना है। ये अमीर घरों के अमीर जादे थे, गरीब घरों के नौजवान जो संघर्ष से निकल करके आये हैं, वो पहले भी और आज भी, आगे भी कांग्रेस का झंडा थाम करके रहेंगे। एक जा रहा है तो आगे आने वाले लोगों के लिए रास्ता प्रशस्त हो रहा है, लोग और शिद्दत के साथ “#कांग्रेस_लाओ-राहुल लाओ” के नारे को बुलंद कर रहे हैं। आज भी ऐसे लाखों कांग्रेस कार्यकर्ता हैं जिन्होंने आपकी दादी के साथ कांग्रेस लाने का संघर्ष किया है, जिन्होंने आपके पिताजी के साथ सांप्रदायिकता और विभाजन की ताकतों से लड़कर के 21वीं सदी के भारत बनाने के संकल्प को आगे बढ़ाने का काम किया है, आपकी माताश्री के साथ संघर्ष करके कांग्रेस को फिर से सत्ता में लाने का काम किया है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-10 साल का मासूम नदी की लहरों में ओझल हो गया यहाँ का है मामला

जरा उन योद्धाओं का एक बार आवाहन करिए, उन बूढ़ी हड्डियों में संघर्ष से तपा हुआ तेज है, बल है, वो आज भी जब सोनिया जी कह रही हैं कि यह #लोकतंत्र बचाने का संघर्ष है, यह अपनी आजादी को बचाने का संघर्ष है तो ऐसे संघर्ष में वो पीछे नहीं रहेंगे और आपके पीछे झंडा लेकर के खड़े होंगे। आपने ठीक कहा है जो जाना चाहते हैं जाएं, जो मोदी जी से डरे हुये हैं वो आज नहीं तो कल चले जाएं, लेकिन जो संघर्ष से तपे हुये लोग हैं वो झंडा थाम करके आपके साथ रहेंगे और जो संघर्ष करना चाहते हैं, वो सब नई पीढ़ी के लोग भी आपके पीछे आकर के खड़े होंगे।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-रोजगार पर केजरीवाल का बंपर ऑफर , सत्ता में आये तो युवाओं को मिलेगा ये
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top