केंद्र / दिल्ली

Big breaking:-संभलकर रहे सितंबर में तीसरी लहर को लेकर चेतावनी जारी , अनुमान है सितंबर में 5 लाख मामले हर दिन आ सकते है सामने

देश में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर बड़ा अपडेट सामने आ रहा है। पीएमओ की ओर से कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चेतावनी जारी की गई है। गृह मंत्रालय के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजास्टर मैनेजमेंट ने अक्टूबर में कोरोना के पीक पर होने की चेतावनी जारी की है।

गृह मंत्रालय के तहत आने वाले राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान (एनआईडीएम) ने प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) को अपनी हालिया रिपोर्ट में अक्टूबर में कोरोना की तीसरी लहर के उच्चतम स्तर को लेकर चेतावनी दी है। इसमें बताया गया है कि बच्चों को ज़्यादा खतरा हो सकता है। इस रिपोर्ट में 40 विशेषज्ञों के रायटर की सर्वे का हवाला दिया गया है।

यदि ज़रा भी लापरवाही बरती जाती है तो देश में एक बार फिर कोरोना का तांडव देखने को मिल सकता है।बच्चों पर संभावित कोरोना की ​​​​तीसरी लहर के प्रभाव पर जोर देते हुए कहा गया है कि इस लहर में बड़ों के समान ही बच्चों को भी खतरा है। इसलिए बच्चों के लिए बेहतर चिकित्सा तैयारियों की जानी चाहिए। समिति की रिपोर्ट के अनुसार अगर बच्चों में मामले बढ़ते हैं तो इलाज से संबंधित- बाल चिकित्सक, कर्मचारी, एंबुलेंस जैसे उपकरणों की भारी कमी है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-उत्तरकाशी से बड़ी खबर 8 ट्रैकर समेत 11 लापता , हेलीकॉप्टर समेत SDRF की टीम की गई रवाना

बड़ी संख्या में बच्चों के संक्रमित होने पर इनकी जरूरत होगी। समिति ने अपनी रिपोर्ट पीएमओ को भेज दी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स ने पाया कि इसके कोई सबूत नहीं है कि वर्तमान और नया डेल्टा प्लस वैरिएंट वयस्कों की तुलना में बच्चों को अधिक प्रभावित करेगा। रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि लैंसेट COVID-19 कमीशन इंडिया टास्क फोर्स ने निष्कर्ष निकाला है कि इस बात का कोई मौजूदा सबूत नहीं है कि एक प्रत्याशित तीसरी लहर विशेष रूप से बच्चों को लक्षित करेगी।

Ad
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top