UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-उत्तर प्रदेश के बिजली कर्मचारी उत्तराखंड में ड्यूटी नहीं करेंगे , उत्तराखंड बिजली कर्मचारियों का करेंगे समर्थन

उत्तर प्रदेश के बिजली कर्मचारी उत्तराखंड में ड्यूटी लगाए जाने से भड़क गए है। कर्मचारियों का कहना है कि वे पूरी तरह उत्तराखंड के बिजली कर्मियों के साथ हैं और किसी भी सूरत में उत्तराखंड में ड्यूटी नहीं करेंगे। राज्य विद्युत परिषद प्राविधिक कर्मचारी संघ ने इसका विरोध करते हुए यूपी पॉवर कॉरपोरेशन के एमडी को पत्र लिखा है।

 

वहीं दूसरी ओर, बिजली कर्मचारी हड़ताल के अपने निर्णय पर अडिग हैं। सरकार की सख्ती के बावजूद बिजली कर्मचारियों ने  मांगे न माने जाने पर छह अक्तूबर से प्रस्तावित हड़ताल पर अडिग रहने का निर्णय लिया है।इसके साथ ही राज्य में बिजली कर्मचारियों की प्रस्तावित हड़ताल को कई संगठनों ने अपना समर्थन दिया है। इसमें विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति उत्तर प्रदेश, राज्य विद्युत परिषद प्राविधिक कर्मचारी संघ उत्तर प्रदेश और ऑल इंडिया फेडरेशन ऑफ पॉवर डिप्लोमा इंजीनियर ने भी बिजली कर्मचारियों की हड़ताल को समर्थन देने का निर्णय लिया है।

 

बिजली कर्मचारी हड़ताल के अपने निर्णय पर अडिग हैं। सरकार की सख्ती के बावजूद बिजली कर्मचारियों ने  मांगे न माने जाने पर छह अक्तूबर से प्रस्तावित हड़ताल पर अडिग रहने का निर्णय लिया है। कर्मचारियों ने सरकार को पांच अक्तूबर तक मांगों के संदर्भ में आदेश करने को कहा है। ताकि कर्मचारी हड़ताल की नौबत न आए।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-यशपाल आर्य के घर पहुँचे हरदा तो तस्वीरों में दिखी करीबिया , दोनों ने ये कही बात

 

शनिवार देर सांय बिजली कर्मचारियों की विद्युत अधिकारी कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा के बैनत तले वर्चुअल बैठक हुई जिसमें सर्व सम्मति से यह निर्णय लिया गया। मोर्चा के संयोजक इंसारुल हक ने कहा कि सरकार जितनी ताकत कर्मचारियों के उत्पीड़न में लग रही है उतनी ताकत यदि उनकी मांगों को पूरा करने में लगाए तो हड़ताल की कभी नौबत नहीं आएगी।
इंसारुल ने कहा कि सरकार यदि अन्य राज्यों से बिजली कर्मचारियों को बुलाकर उनकी जगह काम लेना चाहती है तो बिजली कर्मचारी उसमें भी पूरा सहयोग करेंगे।

 

उन्होंने कहा कि मांग पूरी न होने पर छह अक्तूबर को सभी कर्मचारी स्टेशन सौंपकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। बैठक की अध्यक्षता अमित रंजन तथा संचालन संयोजक इंसारूल हक ने किया। इस अवसर पर हाइड्रोइलेक्ट्रिक एंप्लाइज यूनियन के अध्यक्ष केहर सिंह, उत्तरांचल पावर जूनियर इंजीनियर एसोसिएशन के अध्यक्ष जगदीश चंद्र पंत ,महामंत्री संदीप शर्मा, उत्तरांचल बिजली कर्मचारी संघ के अध्यक्ष विनोद कुमार ध्यानी, विद्युत संविदा संगठन के महामंत्री मनोज पंत आदि थे।
ऊर्जा निगमों में हड़ताल से निपटने को एस्मा लागू
बिजली कर्मचारियों की हड़ताल को देखते हुए ऊर्जा निगमों में एस्मा लागू कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-भारी बरसात बर्फबारी के बीच चारधाम यात्रियों के लिए क्या हो पाई व्यवस्था , पूरे यात्रा रूट में हजारों यात्री

 

तीनों निगमों में अधिशासी अभियंता और इससे ऊपर के इंजीनियर हड़ताल पर गए, तो उन्हें सीधे सस्पेंड किया जाएगा। सरकार ने पॉवर स्टेशन संभालने को वैकल्पिक इंतजामों पर भी काम शुरू कर दिया है। विद्युत कर्मचारी अधिकारी संयुक्त मोर्चा के बैनर तले कर्मचारियों ने छह अक्तूबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल का ऐलान किया है। कर्मचारियों की पिछली एक दिन की हड़ताल में ही करोड़ों का नुकसान हो गया था। ऐसे में इस बार सरकार न सिर्फ पहले से ही वैकल्पिक इंतजाम करने में जुट गई है,बल्कि पूरी सख्ती के मूड में भी है।

 

मुख्य सचिव एसएस संधु ने सभी जिलाधिकारियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग कर उन्हें आगाह भी कर दिया है। सूत्रों ने बताया कि सरकार सुचारू बिजली आपूर्ति रखने के लिए किसी भी सूरत में बिजली कर्मचारियों के समक्ष झुकने को तैयार नहीं हैं। बैठक में शासन और ऊर्जा के तीनों निगमों के अफसर भी मौजूद रहे। कर्मचारी पूरी तरह हठधर्मिता पर उतर आए हैं। उनकी अधिकतर मांगों को भी मान लिया गया है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-इस जिले में भारी बारिश के चलते सोमवार को स्कूल बंद

 

ऊर्जा मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा कि उपनल के कर्मचारियों को जोखिम भत्ता, रात्रि कालीन भत्ता समेत तमाम लाभ दिए गए हैं। इसके बाद भी कर्मचारी मानने को तैयार नहीं है। ऐसे में एस्मा लगाने के अलावा दूसरा कोई विकल्प शेष नहीं था। अधिशासी अभियंता और इससे ऊपर के अफसर यदि हड़ताल में शामिल हुए, तो उनके खिलाफ सीधे निलंबन की कार्रवाई होगी।
यूपी, हिप्र और हरियाणा सरकार से मांगी मदद
सूत्रों ने बताया कि राज्य सरकार ने जनता की सहुलियत के मद्देनजर यूपी, हिमाचल प्रदेश और हरियाणा से भी मदद मांगी है। इन तीनों राज्यों में भी भाजपा की सरकारें हैं। इन राज्यों से ऐसे बिजली कर्मचारी उपलब्ध कराने का आग्रह किया गया है जो बिजली परियोजनाओं और ग्रिड में काम करने में माहिर हैं।

 

 

Ad
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top