UTTRAKHAND NEWS

Big breaking :-चेन लुटेरों को पकड़ने में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड पुलिस में श्रेय लेने की होड़ वो बोले हमने पकड़ा ये बोले हमने

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड पुलिस में श्रेय लेने की होड़, शामली पुलिस बोली लुटेरों को हमने पकड़ा; दून के एसएसपी ने कहा संयुक्त अभियान में हुई गिरफ्तारी

 

दून में चेन लूट की छह वारदात को अंजाम देने वाले चार बदमाशों के दबोचने के बाद उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड पुलिस में श्रेय लेने की होड़ बनी हुई है। शामली पुलिस बोली लुटेरों को हमने पकड़ा है। वहीं दून के एसएसपी ने कहा संयुक्त अभियान में गिरफ्तारी हुई।देहरादून: जिले में चार घंटे के भीतर चेन लूट की छह वारदात को अंजाम देने वाले चारों बदमाशों के दबोचे जाने के बाद अब उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड पुलिस में उनकी गिरफ्तारी का श्रेय लेने की होड़ लग गई है।

 

 

रविवार रात उत्तर प्रदेश के शामली जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुकीर्ति माधव ने आरोपितों की गिरफ्तारी जिले की झिंझाना थाना पुलिस की ओर से करने की पुष्टि की थी। उनका कहना था कि झिंझाना थाना पुलिस ने आरोपितों को गिरफ्तार कर देहरादून पुलिस के हवाले किया है।इसके बाद सोमवार को देहरादून के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जन्मेजय खंडूड़ी ने प्रेस वार्ता में बताया कि देहरादून और झिंझाना पुलिस ने संयुक्त अभियान के बाद आरोपितों को गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking :-प्रवक्ताओ की नियुक्ति को लेकर मंत्री धन सिंह रावत ने कही बड़ी बात

 

 

दून में अपने कार्यालय में पत्रकारों से रूबरू एसएसपी जन्मेजय खंडूड़ी ने बताया कि 28 अप्रैल को हर्रावाला के गीतापुरम, रायपुर के मयूर विहार, कौलागढ़, पित्थूवाला, प्रेमनगर के ठाकुरपुर और सेलाकुई बाजार में एक के बाद एक छह महिलाओं की चेन लूट ली गई थी।घटनास्थलों के निरीक्षण और आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से आरोपितों की पहचान करने के बाद देहरादून पुलिस ने छह मई को दो आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया था।इनमें गुलशन मूल निवासी विरालियन, झिंझाना (शामली) व हाल निवासी छतरपुर, महरौली (दिल्ली) को छतरपुर दिल्ली में और सोनू यादव निवासी सोनिया विहार चांद पट्टी दिल्ली को हरिद्वार में नारसन बार्डर के पास पकड़ा गया।

सोनू यादव भी दिल्ली जा रहा था। इन दोनों ने लूट के मुख्य आरोपित चोरखाला, सहसपुर निवासी जुगनू उर्फ जोगेंद्र और अहमदगढ़, झिंझाना निवासी सोनू को दिल्ली में शरण दी थीसोनू यादव ने पुलिस को बताया कि लूट के बाद उसने जुगनू और सोनू को हरिद्वार में हाथीपुल के पास छोड़ा था। इस पर पुलिस ने हाथीपुल और उसके आसपास क्षेत्र में लगे सीसीटीवी कैमरों को चेक किया।

इससे पता चला कि आरोपित झिंझाना (शामली) चले गए हैं। दोनों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की टीम झिंझाना गई। वहां पता चला कि जुगनू और सोनू अपने अन्य साथियों ग्राम खोकसा, झिंझाना, शामली निवासी कान्हा व खानपुर जाटान, झिंझाना, शामली निवासी बिल्लू के साथ झिंझाना के पास ही ग्राम खोकसा में छिपे हुए हैं।इसके बाद देहरादून पुलिस ने झिंझाना पुलिस को साथ लेकर खोकसा में दबिश दी और चारों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपितों की निशानदेही पर पुलिस ने लूटी गई चेन सहसपुर क्षेत्र में जंगल से बरामद की।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking :-तो क्या उत्तराखंड से पीयूष गोयल को राज्यसभा भेजेगी बीजेपी, अगर नहीं तो पैनल मे नाम क्यों हैं

झिंझाना में बनाई थी लूट की योजना

जुगनू ने बताया कि वह वर्तमान में सहसपुर क्षेत्र में चोरखाला मस्जिद के पास रहता है। पहले वह छोटा हाथी चलाता था। लाकडाउन में यह काम छूटने पर उसने खिलौनों की दुकान खोल ली।10 अप्रैल 2022 को वह अपनी ससुराल अहमदगढ़, झिंझाना गया था, जहां उसकी मुलाकात बिल्लू और कान्हा से हुई। रातों-रात अमीर बनने के लालच में उन्होंने देहरादून में चेन लूटने की योजना बनाई और अपने साथी सोनू को भी इसमें शामिल कर लिया।

फर्जी नंबर प्लेट लगाकर बाइक से दून आए थे चारों लुटेरे

जुगनू, सोनू, बिल्लू और कान्हा 28 अप्रैल को दून में आइएसबीटी के निकट मिले। चारों आरोपित दो मोटरसाइकिल में दून आए थे। इनमें एक मोटरसाइकिल खानपुर जाटान झिंझाना निवासी सतपाल की और दूसरी जुगनू की थी।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking :-इस बार सोने पर सुहागा। अर्श ठाकुर ने झटका सोना भी और चांदी भी

दोनों मोटरसाइकिल में आरोपितों ने फर्जी नंबर प्लेट लगा रखी थी। जुगनू और बिल्लू एक मोटरसाइकिल पर जबकि, कान्हा और सोनू दूसरी मोटरसाइकिल पर निकले। चेन लूट की घटनाओं को अंजाम देने के बाद सोनू सहसपुर में ही रुक गया, जबकि कान्हा मोटरसाइकिल से जंगल के रास्ते और जुगनू व बिल्लू बस में बैठकर झिंझाना आ गए।

 

 

 

30 अप्रैल को सोनू भी मोटरसाइकिल से झिंझाना पहुंच गया। इस बीच उन्हें पता चला कि देहरादून पुलिस उनका पीछा करते हुए झिंझाना पहुंच गई है तो जुगनू व सोनू दिल्ली भाग गए, जबकि बिल्लू व कान्हा झिंझाना में ही छिप गए।

दिल्ली में जुगनू व सोनू अपने साथी सोनू यादव के सोनिया विहार स्थित घर पहुंचे और उसे घटनाओं के बारे में बताकर पुलिस से बचने के लिए किसी सुरक्षित स्थान पर ले जाने को कहा।

सोनू यादव उन्हें अपने आटो से गुलशन के कमरे पर छतरपुर ले गया। जहां रात में रुकने के बाद सोनू यादव के आटो से जुगनू और सोनू दिल्ली से बागपत होते हुए रुड़की आए। रात को वहां रुकने के बाद सुबह सोनू यादव उन्हें हरिद्वार में हाथीपुल के पास छोड़कर वापस चला गया।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 गूगल न्यूज़ ऐप पर फॉलो करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top