UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-उत्तराखंड के इस वैज्ञानिक ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किया उत्तराखंड का नाम ऊंचा मिला यह पुरस्कार

पानी की गुणवत्ता को लेकर लोगों को जागरूक करने के साथ ही विभिन्न माध्यमों से लोगों को जागरूक करने वाले उत्तराखंड के वैज्ञानिक डॉ. बृजमोहन शर्मा को एशिया का सोशल इनोवेटर अवार्ड ऑफ द ईयर, 2021 अर्वाड से नवाजा जा रहा है। इसकी सूचना मलेशिया की संस्था ASIA अर्वाड एवं RULA की ओर से उन्हें दी गई। यही नहीं, इस पुरस्कार के संबंध में आठ अकटूबर, 2021 को टाईम्स ऑफ लंदन में खबर भी प्रकाशित हुई। इस पर स्पेक्स कार्यालय में खुशी की लहर है।

 

 

डॉ. शर्मा स्पेक्स के सचिव भी हैं।
जल परीक्षण से की थी शुरूआत
डॉ बृज मोहन शर्मा ने बिना किसी फंड के वर्ष 1990 में स्वेच्छा से जल परीक्षण अभियान शुरू करके अपनी यात्रा शुरू की।

 

 

 

 

 

बाद में, 1996 में उन्होंने जागरूकता पैदा करने के साथ-साथ खाद्य मिलावट को रोकने के लिए खाद्य मिलावट परीक्षण पर अपने दम पर एक और अभियान शुरू किया। पानी की गुणवत्ता को लेकर उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में उनकी रिपोर्ट प्रकाशित हुई तो ये मामला मानवाधिकार आयोग तक पहुंच गया। मानवाधिकार कार्यकर्ता भूपेंद्र कुमार ने ये मामला उठाया। कारण ये है कि राजधानी देहरादून के अकेले नोर्थ जोन में ही पानी की गुणवत्ता को लेकर हर माह 23 लाख से अधिक रुपये जल संस्थान ठेकेदारों दे रहा है। इसके बावजूद भी लोगों को शुद्ध पानी नहीं मिल रहा है।

 

 

 

 

जल संस्थान खारिज कर रहा था रिपोर्ट
मुख्यमंत्री आवास, राजभवन, सचिवालय, विधानसभा के साथ ही सभी मंत्री और वीआइपी के घरों में लगे वायर प्यूरीफाई इस बात को प्रमाणित करते हैं कि प्रदेश सरकार, सरकार के मंत्रियों, अधिकारियों को भी उत्तराखंड में पानी की शुद्धता पर विश्वास नहीं है। वहीं, मानवाधिकार आयोग में जल संस्थान ने स्पेक्स की रिपोर्ट को खारिज कर दिया।

 

 

 

 

वहीं, उत्तराखंड जल संस्थान ने डॉ. शर्मा की रिपोर्ट को आयोग में खारिज कर दिया। इस पर आयोग ने पानी को लेकर स्थिति स्पष्ट करने को कहा। आयोग के सदस्य अखिलेश चंद्र शर्मा ने स्पेक्स सचिव को डॉ. बृजमोहन शर्मा को नोटिस जारी कर अपना पक्ष रखने को कहा। खास बात ये है कि डॉ. शर्मा की रिपोर्ट में देहरादून के 53 स्थानों पर पानी में क्लोरीन की मात्रा मानक से अनुरूप नहीं पाई गई। साथ ही पानी में फिकल कालीफार्म व अन्य हानिकारक तत्व पाए गए। वहीं, जल संस्थान ने भी जांच कराई और दावा किया कि पानी में क्लोरीन भारतीय मानक ब्यूरो के मानकों के अनुरूप है। वहीं, अब मलेशिया की संस्था ने डॉ. शर्मा को उनके कार्यों के लिए एशिया का सोशल इनोवेटर अवार्ड ऑफ द ईयर, 2021 देने का निर्णय किया है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-सहसपुर विधानसभा में बीजेपी के वर्तमान विधायक को लेकर जनता दे रही रेड अलर्ट , लेकिन बीजेपी संगठन का वो कौन है जो पार्टी की आखों में धूल झोंक रहा , कही दाल में कुछ काला तो नहीं

 

 

 

 

कर रहे हैं वैज्ञानिक अध्ययन
डॉ. शर्मा को बच्चों सहित समाज के विभिन्न वर्गों के बीच ग्रासरूट स्तर एवं क्षेत्र आधारित हस्तक्षेप के माध्यम से विज्ञान को लोकप्रिय बनाने का भी शौक है। एक उत्साही पर्यावरणविद् और मूल रूप से वैज्ञानिक, डॉ बृज मोहन शर्मा ने 1994 में औपचारिक रूप से सोसाइटी ऑफ पॉल्यूशन एंड एनवायर्नमेंटल कंजर्वेशन साइंटिस्ट्स SPECS संगठन को पंजीकृत किया। दून घाटी की हवा में सॉलिड पार्टिकुलेट मैटर की निगरानी के लिए एक वैज्ञानिक अध्ययन शुरू किया। उनका लक्ष्य पारिस्थितिक रूप से नाजुक दून घाटी में वायु प्रदूषण के बढ़ते स्तर के लिए वैज्ञानिक प्रमाण सामने लाने का था। अध्ययन के परिणाम जागरूकता पैदा करने और उसके बाद दून घाटी में वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने में बहुत मददगार रहे।

 

 

 

खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता पर भी कर रहे हैं जागरूक
2005 में, डॉ शर्मा ने खाद्य मिलावट परीक्षण अभियान को चारधाम मार्गों (गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ) तक ले जाकर संस्थागत रूप दिय। तब से यह एक नियमित आयोजन है। इस अभियान ने चारधाम मार्गों पर लोगों और अधिकारियों को राज्य में खाद्य मिलावट के स्तर को समझने में मदद की है। वह इस दिशा में लगातार कार्यरत है।
बनाई कम लागत वाली एलईडी
स्पेक्स के लिए सबसे बड़ा मील का पत्थर तब आया जब यह कम लागत वाली एलईडी बल्ब बनाने में सफल रहा। डॉ शर्मा के मार्गदर्शन में, स्पेक्स ने कम लागत और ऊर्जा बचाने वाली एलईडी लाइट बनाने की प्रक्रिया विकसित की। एलईडी लाइटों के माध्यम से ऊर्जा संरक्षण के लिए जागरूकता पैदा करने के अलावा, उन्होंने लोगों को ऊर्जा संरक्षण में उन्मुख, सुसज्जित और प्रशिक्षित भी किया। 2013 के केदारनाथ आपदा के बाद स्पेकस ने लोगों और सामानों को एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में ले जाने के लिए जिपलाइन रोपवे के माध्यम से आपदा प्रभावित क्षेत्रों में लोगों को जोड़ा। स्पेसिफिकेशंस सुरक्षित रोपवे स्थापित करने के अलावा, बेहतर और लंबे समय तक चलने वाली सेवाओं के लिए इसे कैसे बनाए रखा जाए, इस पर समुदायों को सुसज्जित और प्रशिक्षित भी किया।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-आज इंतज़ार ना करें आज हरक की कांग्रेस में Joining नहीं होने जा रही , News Height पर हरक ने की पुष्टि

 

 

 

327 गांवों को एलईडी बल्ब से किया रोशन
2013 में जलवायु परिवर्तन शमन और रोजगार सृजन और ऊर्जा की बचत के लिए पर्यावरण संरक्षण के लिए शुरू हुए एक अन्य अभियान में डॉ शर्मा ने उत्तराखंड के 327 गांवों को 7 वाट एलईडी बल्ब से आबाद करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इस प्रकार प्रति- 302 लाख बिजली यूनिट की बिजली की बचत प्रति वर्ष और 21245 मीट्रिक टन ग्रीनहाउस गैसों के उत्पादन को भी धीमा करने में सहयोग दिया जा रहा है। इन बल्बों को स्थानीय ड्रॉपआउट छात्रों, ग्रामीणों, जेल के कैदियों और विशेष रूप से विकलांग व्यक्तियों द्वारा निर्मित किया गया था जिससे उन्हें अपनी आजीविका के साधन विकसित करने में मदद मिली। अब, वह इन गांवों में ई-कचरे आय अर्जन के साधन की तरह कार्य करेंगे।

 

 

 

फलदार वृक्षों का पौधरोपण, कोरोना में किए ये काम
वित्त वर्ष 2020-21 में उनके नेतृत्व में डोईवाला विकासखण्ड के ग्रामीणों ने उनके नेतृत्व में अपने खेतों में 2.10 लाख फलदार पौधे लगाए। कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान, 62 हजार फेस मास्क की सिलाई के माध्यम से 68 कम आय वर्ग की महिलाओं के लिए रोजगार का सृजन हुआ। ये मास्क कोरोना योद्धाओं के लिए बांटे गए। इसके अलावा, 325 पीपीई किटस, 5000 पुनःप्रयोग किये जाने वाले और 4600 एकल उपयोग मास्क बांटे गए। इस महामारी में राज्य को सहयोग के लिए सीएम उत्तराखंड को 1 लाख का दान दिया गया। इसके अलावा लॉक डाउन के दौरान होममेड सैनिटाइजर, हर्ब ल हैंडवाश और कम लागत वाले पानी के फिल्टर का भी नवाचार किया गया। बच्चों की गतिविधियों के लिए एक हुंचा ऐप भी विकसित किया गया था।

 

 

पहले भी मिल चुके हैं कई पुरस्कार
इससे पूर्व डॉ. शर्मा को उनके उत्कृष्ट कार्य के लिए कई पुरस्कार मिल चुके हैं। इसमें भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार-2013-2018 में उत्कृष्ट कार्य के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार और गवर्नर इनोवेशन अवार्ड्स-2018 शामिल हैं। डॉ बृज मोहन शर्मा को नवाचारों के माध्यम से विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार के क्षेत्र में प्रतिष्ठित लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड 2019 से भी सम्मानित किया गया है जो उन्हें ट्रॉय डी. क्लाइन, निदेशक, एसटीईएम इनोवेशन लैब, नासा, यूएसए और पद्म श्री प्रो. डॉ. वी. आदिमूर्ति, इसरो टीम के सदस्य, जो मंगलयान और चंद्रयान परियोजनाओं को संचालित कर चुके हैं द्वारा स्मार्ट सर्किट द्वारा आयोजित अंतर्राष्ट्रीय शैक्षिक संगोष्ठी, चंडीगढ़ में उनके नवाचारों के माध्यम से विज्ञान में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए प्रदान किया गया। पिछले 25 वर्षों में, उन्होंने ‘साइंस फॉर ऑल’ के सपने को पूरा करने की दिशा में काम किया है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-आज से बदलने वाली है इन राशियों की किस्मत, नौकरी-रोजगार में होगी जबरदस्त उन्नति

 

 

 

उनका मानना है कि लोगों को आश्रित बनाने के बजाय आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में काम करना आंतरिक रूप से अधिक आवश्यक है। डॉ. बृजमोहन शर्मा ने देश के दूर-दराज के हिस्सों में अपने हस्तक्षेप के माध्यम से 50 लाख से अधिक लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने के लिए प्रेरित किया है। उनके विज्ञान संचार, बच्चों के लिए एसटीईएम सीखने के उपकरण, उद्यमिता, पर्यावरण संरक्षण, ऊर्जा संरक्षण आदि क्षेत्र किये गये कार्य सराहनीय है।
इस तरह भी चलाते हैं अभियान
डॉ शर्मा द्वारा किए गए नवाचारों का प्रभाव जिसमें पानी फिल्टर, पौधों की वृद्धि के लिए हाइड्रोपोनिक समाधान, अंधविश्वासों की सच्चाई को प्रकट करने के लिए किट, रसोई कसोटी भोजन में मिलावट के परीक्षण के लिए एक किट, जल कसौटी पानी की गुणवत्ता के परीक्षण के लिए एक किट, कम लागत वाली दूरबीन शामिल हैं। , कम लागत पोर्टेबल सौर एमरजेन्सी बल्ब, एलईडी बल्ब, एलईडी बल्ब के लिए फ्यूज, वैज्ञानिक सिद्धांतों और विज्ञान को लोकप्रिय बनाने के लिए कम लागत वाले खिलौने, बांस आधारित सैनिटाइज़र डिस्पेंसर, कोरोना के दौरान स्वचालित सैनिटाइज़र डिस्पेंसर आदि ने जन जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाने में आम जनता की मदद की है। डा0 शर्मा अपने विचारों को लेकर आम जन के मध्य हमेशा उपस्थित रहते हैं एशिया का सोशल इनोवेटर अवार्ड ऑफ द ईयर, 2021 से नवाजे जाना उनके निःस्वार्थ भाव से किये जा रहे कार्यों को पहचान दिलाने में सहायक सिद्ध होगा।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top