UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-केंद्र सरकार का ये फैसला सरकारी स्कूलों में पढ़ाई की गुणवत्ता में कर सकता है बड़ा बदलाव , जल्द होने जा रहा फैसला

स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने और उन्हें इन्फ्रास्ट्रक्चर के स्तर पर मजबूत बनाने के लिए सरकार ने वैसे तो कई अहम कदम उठाए हैं। इनमें फिलहाल जो खास है, उनमें सरकारी स्कूलों को निजी स्कूलों के साथ जोड़ने की योजना है।

 

 

इसके तहत प्रत्येक सरकारी स्कूल को किसी निजी स्कूल के साथ संबद्ध किया जाएगा। वे आपस में मिल-जुलकर एक-दूसरे के संसाधनों का इस्तेमाल करेंगे। साथ ही एक-दूसरे के बेहतर काम-काज को अपनाएंगे भी।नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति आने के बाद स्कूलों की गुणवत्ता को बेहतर बनाने के लिए दूसरा जो अहम कदम उठाया गया है, वह विद्यांजलि योजना का नया चरण है। इसमें कोई भी शिक्षित या हुनरमंद व्यक्ति अब स्वयंसेवक के रूप में स्कूलों के साथ जुड़कर नई पीढ़ी के भविष्य को संवारने में मदद दे सकेगा।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:- PRD जवानों ने सीएम आवास घेराव में दिखाया दम

 

इनमें सेवानिवृत्त अधिकारी, खेल क्षेत्र से जुड़ी प्रतिभाएं, सेवानिवृत्त शिक्षक आदि में से कोई भी हो सकता है। हालांकि इसके लिए पहले रजिस्ट्रेशन कराना होगा। साथ ही किस क्षेत्र से जुड़े हैं, आदि की पूरी जानकारी देनी होगी। इसके आधार पर जरूरतमंद स्कूल ऐसे लोगों को खुद ही अपने यहां बच्चों को पढ़ाने या विशेष कक्षाएं लेने के लिए आमंत्रित करेंगेखास बात यह है कि यह नई पहल शुरू होने के बाद अब तक देशभर के करीब साढ़े पांच हजार लोगों ने स्कूलों में पढ़ाने के लिए बतौर स्वयंसेवक रजिस्ट्रेशन कराया है। यह संख्या हर दिन तेजी से बढ़ भी रही है। इसके साथ ही इस योजना के तहत कोई भी स्कूलों को जरूरी संसाधन भी मुहैया करा सकता है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-यहाँ सेनेटरी सब इंस्पेक्टर का शव पेड़ से लटका मिला

 

 

 

जरूरतमंद स्कूलों को इसके लिए अपनी जरूरत का वितरण देना होगा। इसके तहत अब तक 20 हजार से ज्यादा स्कूलों की ओर से आवश्यक संसाधनों की मांग की जा चुकी है। इनमें से करीब 12 स्कूलों को मदद भी मिल गई है।हालांकि, सरकार इस पूरी मुहिम को तेज करने की कोशिशों में जुटी है। इसके लिए लोगों से आगे आने को कहा गया है। इतना ही नहीं, सरकार इस मुहिम को गांवों की शान से भी जोड़ने की योजना बना रही है, ताकि इन स्कूलों से पढ़ कर निकला गांव का हर व्यक्ति स्कूलों को बेहतर बनाने के लिए आगे आए और सहयोग भी दे। मौजूदा समय में देश के सभी सरकारी स्कूलों के अपने पक्के भवन तो हैं, लेकिन इनमें छात्रों की पढ़ाई से जुड़े जरूरी संसाधन नहीं हैं। गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए स्कूलों का संसाधनों से लैस होना जरूरी है।

Ad
Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top