UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-विवादों में घिरी लोक सेवा आयोग की ये परीक्षा , अभियर्थियों ने बताया अंसार की में उत्तर ही गलत निकले

चुनावी वर्ष होने के कारण जहां इस वक्त राज्य में सरकारी नौकरियों की भरमार आई हुई है। जिसकी प्रतियोगी परीक्षाएं जारी है। परंतु यह भी सर्वविदित है कि राज्य की अधिकांश प्रतियोगी परीक्षाएं अक्सर विवादों में ही घिरी रहती है। ताजा मामला बीते 28 अक्टूबर से 3 नवंबर के मध्य उत्तराखण्ड लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित की गई उत्तराखण्ड विशेष अधीनस्थ शिक्षा (प्रवक्ता संवर्ग) समूह ग में अर्थशास्त्र विषय की मुख्य परीक्षा (UKPSC LECTURE MAIN EXAM) का है।

 

 

 

 

 

जिसकी ‘आंसर की’ में उत्तराखण्ड लोक सेवा आयोग के अधिकारियों/कर्मचारियों की लापरवाही का खामियाजा राज्य के गरीब अभ्यर्थियों को भुगतना पड़ रहा है। बताया गया है कि आयोग द्वारा परीक्षा आयोजित किए जाने के बाद न सिर्फ आंसर की काफी देरी से अपलोड की गई बल्कि उसमें लगभग 17-18 प्रश्नों के उत्तर भी ग़लत बताए गए हैं। हैरानी की बात तो यह है कि इनमें ऐसे प्रश्न भी शामिल हैं जिनका उत्तर सामान्य से सामान्य अभ्यर्थी को भी पता रहता है। इससे भी बुरी बात यह है कि आयोग द्वारा अभ्यर्थियों से आपत्ति जताने के लिए प्रति प्रश्न 50 रूपए का शुल्क निर्धारित किया गया है।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-ये है उत्तराखंड में नई कोरोना Guideline ,जानिए क्या बंद हुआ और क्या खुला है अभी

 

 

 

 

 

जिस कारण जहां गरीब अभ्यर्थी आपत्ति जताने से कतरा रहे हैं वहीं आयोग की इस घोर लापरवाही से पिछले कई वर्षों से सरकारी नौकरी का सपना संजोकर दिन रात मेहनत में जुटे युवाओं के भविष्य पर भी संकट के बादल मंडरा रहे हैं।आयोग की इस लापरवाही से न सिर्फ गरीब अभ्यर्थी मानसिक रूप से परेशान हैं बल्कि उनका भविष्य भी अंधकारमय नजर आ रहा है और उनकी मेहनत भी केवल मजाक बनकर रह गई है। बावजूद इसके वह कुछ भी नहीं कर पा रहे हैं क्योंकि आयोग द्वारा प्रति प्रश्न 50 रूपये आपत्ति दर्ज करने के रखे गए है, जबकि इसमें अभ्यर्थियों की कोई गलती नहीं है। अब ऐसे में गरीब अभ्यर्थी 750-800 रूपए कहा से लाएंगे। वह कहते हैं कि आयोग द्वारा जारी की गई आंसर की में सामान्य से सामान्य प्रश्नों के उत्तर भी ग़लत बताए गए हैं।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-तो हरक खेमे में फिर हलचल , रखिए नजर कुछ बड़ा हो सकता है जल्दी

 

 

 

 

 

उदाहरण के तौर पर जनसंख्या की दृष्टि से उत्तराखंड का सबसे बड़ा जिला हरिद्वार है जबकि आयोग द्वारा इसे देहरादून बताया गया है। इसी तरह जीएसटी परिषद का अध्यक्ष वित्तमंत्री होता है परन्तु आयोग द्वारा जारी आंसर की प्रधानमंत्री को इसका सही उत्तर बताया गया है

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-गोदियाल हरक को कांग्रेस में लाने के पक्ष में , हरीश रावत की अभी तक तो ना है , हरदा बोले मुझसे इस बारे में नहीं हुई बात ,पार्टी जनभावना को देखते हुए फैसला ले सुनिए हरदा क्या बोले

 

 

प्राप्त जानकारी के अनुसार उत्तराखण्ड लोक सेवा आयोग द्वारा बीते 28 अक्टूबर से 3 नवंबर के मध्य आयोजित की गई उत्तराखण्ड विशेष अधीनस्थ शिक्षा (प्रवक्ता संवर्ग) समूह ग की मुख्य परीक्षा के अर्थशास्त्र विषय की ‘आसंर की’ में लगभग 17-18 प्रश्नों के उत्तर गलत बताए गए हैं।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top