UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-सचिवालय संघ की मेहनत लाई रंग , यहाँ हुए पदोन्नति के आदेश जारी देखिए आदेश

उत्तराखंड सचिवालय से आज की बड़ी खबर सचिवालय संघ की लगातार कोशिशों के चलते निजी सचिव संवर्ग मे विगत 02 वर्ष से लम्बित विभागीय पदोन्नति का प्रकरण निस्तारित कराये जाने की सचिवालय संघ की मेहनत हुई आज सफल हुई। सचिवालय संघ के अध्यक्ष दीपक जोशी ने कहा कि संघ की मेहनत रंग लाई है उन्होंने सचिवालय प्रशासन विभाग का आभार व धन्यवाद । सभी पदोन्नत साथियो को संघ की ओर से बधाई भी दी आज पद्दोन्नति के आदेश में लिखा है

उत्तराखण्ड सचिवालय सेवा के निजी सचिव संवर्ग के अन्तर्गत निम्नलिखित वरिष्ठ निजी सचिव वेतनमान रू0 67700208700 पे-मैट्रिक्स लेवल-11 को विभागीय चयन समिति की संस्तुति पर नियमित चयनोपरान्त प्रमुख निजी सचिव के रिक्त पद पर वेतनमान स 78800-209200 पे-मैट्रिक्स लेवल-12 में कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से अस्थाई रूप से पदोन्नत किये जाने की श्री राज्यपाल सहर्ष स्वीकृति प्रदान करते है

1.  कैलाश चन्द्र तिवारी

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-इस जिले से हो गया कई दरोगाओं का ट्रांसफर

2.  अच्युत प्रसाद वाजपेयी

3.  विपिन चन्द्र जोशी

4. राजेन्द्र सिंह राणा

5.  भरत सिंह रावत

उक्त कार्मिकों को पदोन्नति के फलस्वरूप प्रमुख निजी सचिव के पद पर 01 वर्ष की विहित परिवीक्षा अवधि पर रखा जाता है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-आयुर्वेद विभाग में चिकित्सकों और फार्मासिस्टों के खाली पदों को भरने के मामले में PMO से आया पत्र , जानिए क्या है मामला

उक्त पदोन्नत कार्मिक वर्तमान तैनाती के स्थान पर तैनात रहेंगे तथा अपने वर्तमान तैनाती के स्थान पर ही कार्यभार ग्रहण करते

हुए सचिवालय प्रशासन (अधि0) अनुभाग-4. उत्तराखण्ड शासन को कार्यभार ग्रहण करने की सूचना उपलब्ध करायेंगे।

 

उक्त आदेश मा० उच्च न्यायालय नैनीताल में योजित रिट याचिका संख्या 191 / 2019 एवं रिट याचिका संख्या 316 / 2020 में

मा० उच्च न्यायालय, उत्तराखण्ड नैनीताल द्वारा पारित किये जाने वाले अन्तिम निर्णय के अधीन रहेंगे। 5 संबंधित कार्मिकों की उपरोक्तानुसार पदोन्नति श्री लाल सिंह नागरकोटी, निजी सचिव (तदर्थ) के प्रकरण में मा० सक्षम न्यायालय में विचाराधीन वाद में मा० सक्षम न्यायालय द्वारा पारित किये जाने वाले अन्तिम निर्णय के अधीन होगी। 6 उक्त प्रोन्नति अस्थाई है तथा भारत सरकार द्वारा राज्य परामर्शीय समिति की संस्तुतियों के अनुसार यदि उ0प्र0 सचिवालय के अन्य कर्मी उत्तराखण्ड राज्य को आवंटित होते है तो तदक्रम में वरिष्ठता प्रभावित होने की स्थिति में इन आदेशों को तत्क्रम में निर्धारित

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालात में मौत हो गई।

होने वाली वरिष्ठता के आधार पर यथावश्यक परिवर्तित / प्रत्यावर्तित / परमार्जित किया जायेगा।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top