UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-जो विधायक जनता के काम के नही उन्हें टिकट नहीं , बीजेपी इस बार अपनाएगी ये ही फार्मूला , 2 दर्जन विधायक रडार में

उत्तराखंड में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव-2022 के लिए भाजपा ने अभी से रणनीति बनानी शुरू कर दी है। विधायकों के प्रदर्शन के आधार पर ही पार्टी आगामी चुनाव में उनको टिकट बांटेगी। भाजपा हाईकमान करीब दो दर्जन विधायकों के नाम ड्रॉप कर सकती है।

सूत्रों की मानें तो अपने कार्यकाल में  खराब प्रदर्शन करने वाले करीब 28 विधायकों का इस बार टिकट कट सकता है। भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के दो दिनी उत्तराखंड दौरे के दौरान उन्होंने विधायकों के प्रदर्शन पर फीडबैक भी लिया।

कोर कमेटी की बैठक में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर विस्तार से मंथन भी किया गया। पार्टी सूत्रों का कहना है कि हाईकमान 28 विधायकों के प्रदर्शन से नाखुश है। ऐसे में इन विधायकों का आगामी विधानसभा चुनाव में टिकर कटना तय माना जा रहा है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-इस सरकारी मेडिकल कालेज में रैगिंग का आरोप , जूनियर को गर्दन झुका कर रखने के आदेश

राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा 28 विधायकों के प्रदर्शन से काफी नाखुश दिखाई दिए। ऐसे में पार्टी  28 विधायकों को आगामी चुनाव में ड्रॉप कर नए चेहरों पर भरोसा जता सकती है, ताकि पार्टी एक बार फिर भारी बहुमत के साथ उत्तराखंड में सरकार बना सके।

कोर कमेटी की बैठक में यह सामने आया कि 28 विधायकों ने पिछला चुनाव जीतने के बाद न तो जनता से कोई संपर्क साधा और न ही अपने-अपने विधानसभा क्षेत्रों में रहे। विधायकों की गैर-मौजूदगी में वोटरों में नेताओं के खिलाफ अच्छा रोष है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-आगनबाड़ी कार्यकत्रियों की मंत्री रेखा आर्य के साथ वार्ता , मंत्री ने सचिव को ये दिए निर्देश

पार्टी हाईकमान को भी ऐसे विधायकों की लिस्ट भी भेजी जा चुकी है, जिनपर दोबारा भरोसा करना ठीक नहीं रहेगा। नड्डा ने उम्रदराज जिताऊ प्रत्याशियाें को दोबारा टिकट देने की भी पैरवी की है। फिलहाल, 70 सीटों में से 56 भाजपा के विधायक हैं। आपको बता दें कि कैंट विधानसभा क्षेत्र से हरबंस कपूर सबसे ज्यादा उम्र 75 साल के विधायक हैं।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-जब देहरादून के DM पहुँचे इस दूरस्थ गाँव , गाँव वालो ने ढोल बजाकर उनका स्वागत किया

नड्डा ने भाजपा प्रदेश कमेटी से भी नाराजगी जाहिर करते हुए कहा है कि कैबिनेट मंत्री सहित विधायक रात्रि प्रवास पर नहीं रहते। उन्होंने प्रदेश कमेटी को सख्त हिदायत है कि कैबिनेट मंत्रियों सहित विधायक अपने-अपने क्षेत्रों में रात्रि प्रवास को गंभीरता से लेते हुए वहीं पर रात्रि विश्राम करें ताकि ग्रामीणों की समस्या का हल निकाला जा सके। उन्होंने सभी को निर्देशित किया है कि रात्रि प्रवास की फाेटो और वीडियो उनके साथ जरूर-जरूर शेयर करें।

 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top