UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-किशोर उपाध्याय ने उठाये गौरव सम्मान पर सवाल , कहा इंद्रमणि बडोनी से बड़ा उत्तराखंड गौरव कोई नहीं

 

 

कांग्रेस  के पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने “उत्तराखंड गौरव सम्मान” पुरस्कारों में राज्य के जनक स्व. श्री इंद्रमणि बडोनी जी की अनदेखी पर दुःख व्यक्त किया है।
उपाध्याय ने मुख्यमंत्री को लिखे अपने पत्र में कहा है कि उन्हें आशा है कि सरकार इस भूल को सुधारेगी, उपाध्याय ने कहा है कि:-

 

 

“आदरणीय मुख्यमंत्री जी,
राज्य स्थापना दिवस से पूर्व राज्य सरकार द्वारा घोषित उत्तराखंड गौरव सम्मान पुरस्कारों से विभूषित स्वनाम धन्य महानुभावों के नामों का अवलोकन किया।
सभी पुरस्कृत महानुभावों को बहुत-बहुत बधाईयां।
सूची में दिवंगत महापुरुषों के भी नाम सम्मिलित हैं।
मेरा व्यक्तिगत सुविचारित मत है कि उत्तराखंड राज्य के जनक श्रद्धेय इन्द्रमणि बडोनी जी से बड़ा कोई दूसरा उत्तराखंड का गौरव नहीं हो सकता।
बडोनी जी का इस राज्य के निर्माण में अभूतपूर्व योगदान है।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-संभलकर रहे बढ़ रहा कोरोना , अब देहरादून में एक बटालियन में सेना के कई जवान कोरोना संक्रमित पाए गए , 3 अस्पताल में भर्ती

राष्ट्रीय राजनैतिक दल को तिलांजलि देकर उन्होंने संघर्ष का रास्ता चुना और अपने खून-पसीने से अलग राज्य के आन्दोलन की अलख जगाई, नहीं तो वे कांग्रेस के बड़े नेता होते और हो सकता है, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हो गये होते, लेकिन उनके मन में पहाड़ के पानी, जवानी और जननी (नारी शक्ति) का दर्द था, जल, जंगल और ज़मीन की रक्षा की पीड़ा थी, उन्होंने व्यक्तिगत हितों को तिलांजलि देकर सार्वजनिक हितों की रक्षा के लिये उत्तराखंड राज्य निर्माण के लिये अपनी आहुति दी।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-महिला सशक्तिकरण बाल विकास विभाग में आंगनबाड़ी सुपरवाइजर के 126 पदों पर आवेदन प्रक्रिया शुरू

 

राज्य के लिये स्वयं की आहुति देने वाले राज्य आन्दोलन के शहीदों की आत्मा को कुछ शान्ति मिलती, यदि श्री बडोनी जी का नाम प्रथम स्थान पर इस सूची में होता और उत्तराखंड राज्य आंदोलन की भावना की भी रक्षा होती।
अखोड़ी जैसे सुदूर ग्रामीण गाँव के गोरू चराने वाले गरीब घर के बेटे के बारे में अमेरिका तक ने कहा था कि वे आज के गांधी हैं।
आशा है, आप मेरे दर्द और भावनाओं को समझेंगे।”

Ad
Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top