UTTRAKHAND NEWS

Big breaking :-अब विधानसभा अध्यक्ष रितु खंडूरी के निजी स्टाफ को लेकर सोशल मीडिया में मचा जमकर घमासान , जमकर लिस्ट हो रही वायरल

Ad

उत्तराखंड में विधानसभा बैक डोर भर्ती घोटाले को लेकर चर्चा में आई विधानसभा अध्यक्ष रितु खंडूरी आज एक बार फिर से चर्चा में है
रितु खंडूरी द्वारा गोविंद सिंह कुंजवाल कार्यकाल के 158 तदर्थ कर्मचारियों और प्रेमचंद अग्रवाल कार्यकाल के दौरान के 72 तदर्थ कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाने के बाद जिस प्रकार वह मीडिया की सुर्खियां बनी हुई है यह उत्तराखंड में पहली बार हुआ है

रितु खंडूरी के इस निर्णय की कई प्रकार व्याख्या हुई और अधिकांश लोगों का मानना रहा कि इसमें कमेटी द्वारा सभी बैक डोर भर्तियों को अवैध माना गया था ज्यादातर ने ऋतू खंडूरी के इन फैसलों की तारीफ की और फैसले क़ो सही बताया तो कइयों ने ये भी सवाल उठाया की जब भर्तियां सभी अवैध थी तो इसके बावजूद प्रकाश पंत यशपाल आर्य और हरबंस कपूर के कार्यकाल के दौरान की बैैकडोर भर्तियों के खिलाफ एक्शन क्यों नहीं लिया गया

 

 

विधानसभा में कुंजवाल और अग्रवाल कार्यकाल के दौरान की भर्तियों की बर्खास्तगी शुरू हो चुकी है इस बीच सोशल मीडिया में रितु खंडूरी एक बार फिर चर्चा में आ गई है
रितु खंडूरी के नाम से सोशल मीडिया में कुछ नाम चलाए जा रहे हैं कि किस प्रकार उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष बनने के बाद उत्तराखंड से बाहर के लोगों को को-टर्मिनस आधार पर अपने साथ तैनात किया है अगर यह नाम पते और पदनाम सही है तो निश्चित रूप से विधानसभा अध्यक्ष रितु खंडूरी से भी सवाल पूछना लाजमी हैं की क्या अपने स्टॉफ के लिए उनक़ो उत्तराखंड का कोई भी सुयोग्य नहीं मिला

 

सोशल मीडिया में एक लिस्ट वायरल हो रही हैं कि विशेष कार्य अधिकारी अशोक शाह पुत्र स्वर्गीय डीएल शाह निवासी मकान नंबर 5 बी 11वी सी ब्लॉक जनकपुरी नई दिल्ली अशोक शाह के बारे में दावा किया जा रहा है कि इन्हें लेवल 10 की तनख्वाह पर रखा गया है जो प्रतिमाह ₹100000 बनता है

दूसरे नंबर पर रितु खंडूरी के लिए सहायक जनसंपर्क अधिकारी आभास सिंह पुत्र भूपेंद्र सिंह निवासी फ्लैट नंबर 1130 ब्लॉक ए गौर सिटी 1 नोएडा एक्सटेंशन इनके लिए लेवल 7 की वेतन जो कि लगभग ₹60000 है तय की गई है

तीसरे नंबर पर सहायक सूचना अधिकारी उत्कर्ष रमन पुत्र मूलनिवासी पटना बिहार है इनके लिए भी लेवल 7 की तनख्वाह लगभग ₹60000 नियत की गई है

चौथे नंबर पर सलाहकार के रूप में ललित डागर को तैनाती दी गई है जो 28 कैलाश नगर नई दिल्ली के रहने वाले हैं लेकिन अवेतनिक बताए जा रहे हैं रितु खंडूरी के नाम से चल रहे इन नामों से आने वाले समय में उत्तराखंड की राजनीति में कितना शोर मचेगा यह तो आने वाला वक्त बताएगा किंतु जिस प्रकार बैक डोर भर्ती के खिलाफ एक्शन लेने के बाद रितु खंडूरी पर यह रिएक्शन देखने को मिला है उसे एक बात तो तय है कि आने वाले वक्त में भाजपा के भीतर भाजपा कि कलह और तेजी से उभर कर आएगी

Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 गूगल न्यूज़ ऐप पर फॉलो करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top