UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-अब प्राइवेट स्कूल के ये शिक्षक भी बन सकेंगे सरकारी शिक्षक , बशर्ते उन्होंने ये किया हो

 

देहरादून। उत्तराखंड के प्राथमिक स्कूलों में 2600 से ज्यादा शिक्षकों के पदों पर होने वाली भर्ती को लेकर बड़ी खबर है, प्राथमिक शिक्षकों के भर्ती प्रक्रिया पर जहां कोर्ट ने जहां स्टे हटा दिया है। वहीं शिक्षा मंत्री अरविंद पाण्डेय ने आज विधान सभा में शिक्षा सचिव के भर्ती प्रक्रिया को जल्द पूरा करने के निर्देश दिए है। शिक्षा मंत्री का कहना है कि कोर्ट से स्टे हटने के बाद सरकार की कोशिश है जल्द ही भर्ती प्रक्रिया हो पूरा कर लिया जाएं। शिक्षा मंत्री का कहना है कि इस महीने के अंत तक भर्ती प्रक्रिया को पूरा कर लिया जाएगा।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-DIG कुमाऊँ ने यहाँ किए बंपर ट्रांसफर देखिए लिस्ट

प्राथमिक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया में देरी की वजह उत्तराखंड प्राथमिक भर्ती नियमावली और केंद्र सरकार के द्धारा जारी नियम दरअसल अड़चन पैदा कर रहा था, जिसको लेकर मामला कोर्ट में चल रहा है, भर्ती परीक्षा पर स्टे की वजह भी यही पेंच था, कि केंद्र सरकार जहां सरकारी स्कूलों में प्राथमिक शिक्षक बनने के लिए उन प्राईवेट स्कूलों के शिक्षकों को भी योग्य मानती है जिन्होने एनआइओएस से 18 माह का डीएलएड प्रशिक्षण प्राप्त किया है। और वह टीईटी पास है, लेकिन राज्य सरकार ने साफ कर दिया था कि एनआइओएस से 18 माह का डीएलएड प्रशिक्षण प्राप्त प्राईवेट स्कूलों के शिक्षक सरकारी स्कूलों में शिक्षक नहीं बन सकते है। कोर्ट में मामला लटकने से सरकार की चिंताएं बढ़ रही थी कि यदि कोर्ट जल्द मामले में निर्णय नहीं लेता है, तो फिर डीएलएड प्रशिक्षित बेरोजगार सरकार के खिलाफ और उग्र हो सकते है। लिहाजा कोर्ट में सरकार ने ठोर पैरवी करते हुए कहा कि सरकार जल्द से जल्द प्राथमिक शिक्षकों के पदों पर भर्ती करना चाहती है जिससे छात्रों को
जहां शिक्षक मिलेगे वही बेरोजगारों
प्रशिक्षित युवाओं को को सरकार
रोजगार दे सकती है। इसी आधार पर
कोर्ट ने भर्ती से स्टे हटा दिया है। भर्ती
पर अब कोई विवाद न हो इसलिए
शिक्षा मंत्री का कहना है कि सरकार
प्राथमिक भर्ती सेवा नियमावली और
केंद्र सरकार के द्वारा बनाएं गए
नियमों के तहत भर्ती करेगी। यानी
साफ है कि केंद्र सरकार के द्धारा
नियम और प्राथमिक शिक्षक भर्ती
नियमावली दोनों के आधार पर भर्ती
प्रक्रिया आगे बढ़ती है तो फिर
एनआइओएस से 18 माह का
डीएलएड प्रशिक्षण प्राप्त ऐसे प्राइमरी
शिक्षक भी सरकारी शिक्षक बन
सकते है, जिन्होने टीईटी पास किया
हुआ है।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-देहरादून चारधाम यात्रा से जुड़ी बड़ी खबर वाहन संचालन के लिए आरटीओ ने जारी की नियमावली
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top