किस्सा कुर्सी का

Big breaking:-किस्सा कुर्सी का – सहसपुर विधानसभा – दावेदारों की भरमार के बीच वजनदार को ही मिलेगा टिकट

 

देहरादून। दून जिले की सहसपुर विधानसभा सीट भी कम निराली नहीं है। क्षेत्रफल के लिहाज से ये सीट शिमला बायपास के गांव से शुरू होकर पावटा नेशनल हाईवे को छूते हुए भी सुदूरवर्ती भाऊवाला, कोटड़ा व इसके आसपास के विशाल इलाके को टच करती है।

 

 

 

सीट पर वोटर की फिर विविधता नजर आती है। जहां शिमला बायपास पर हुई गढ़वाली मतदाता की नई बसाकत ज्यादा है तो सहसपुर, सेलाकुई व आसपास में मुस्लिम व कठमालि बाहुल्य वहीं सुधोवाला से लेकर भाऊवाला, कोटड़ा, होरावाला आदि में यहां पुरानी कठमालि आबादी का प्रभाव है।

 

 

 

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-चुनावो के चलते हो गई ये परीक्षा स्थगित , चुनावों के बाद ही होगी परीक्षा

सीट पर दावेदारों की बात करें तो लगातार 2 बार से इस सीट पर भाजपा का परचम लहराते आये सहदेव सिंह पुंडीर मजबूती से एक बार फिर अपना दावा जता रहे हैं। हालांकि, 2 बार का विधायक होना ही उनकी दावेदारी को मजबूत और कमजोर दोनों बना रहा है। 2 बार की एन्टी इंकबंसी जहां उनकी राह को रोड़ा भी है तो यही टिकट की दावेदारी का सबसे बड़ा आधार भी। इसी सीट से नवीन ठाकुर भी इस बार जोरदार ढंग से टिकट की दावेदारी में है। वे निरंतर रूप से अपने क्षेत्र में सक्रिय रहे हैं और युवा होने के चलते खासे लोकप्रिय भी हैं। उनकी पकड़ भाजपा प्रदेश संगठन व आरएसएस दोनों में मजबूत बताई जाती है। ओमबीर राघव समेत कुछ अन्य भी यहां से भाजपा टिकट मांग रहे हैं।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-कल दिल्ली में उत्तराखंड बीजेपी के टिकटों पर मंथन , क्या होगी पहली लिस्ट की घोषणा , प्रत्याशियों की धड़कने बढ़ी

 

 

 

 

दूसरी ओर इस सीट पर हमेशा की तरह इस बार भी कांग्रेस में अंतर्कलह जबरदस्त है। यहां से एक बार फिर आर्येन्दर शर्मा टिकट की जोरदार दावेदारी कर रहे हैं। हालांकि उनके खिलाफ कांग्रेस का एक स्थानीय खेमा लगातार दो दिनों से विरोध में जुटा है। दमदार दावेदार होने के बावजूद आर्येन्दर के सामने तमाम मुश्किलें मुँह बाए खड़ी हैं। पिछला चुनाव उन्होंने निर्दलीय लड़ा था और इसका सीधा लाभ कहीं न कहीं भाजपा को मिला।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-पंजाब में बदली मतदान की तिथि , क्या उत्तराखंड में भी बदलेगी , हो रही बड़ी मांग

 

 

 

 

वहीं, लक्ष्मी अग्रवाल भी कांग्रेस से मजबूती से दावा ठोक रही हैं। बीते दो चुनाव में निर्दलीय मैदान में उतरकर पार्टी को अपनी ताकत का अहसास करा चुकी है। इस सीट पर राकेश नेगी छुपे रुस्तम हो सकते हैं। dav कॉलेज से अपनी राजनीति शुरू करने वाले राकेश युवा होने के चलते भी खासे लोकप्रिय हैं। आर्येन्दर और लक्ष्मी की लड़ाई में राकेश को लाभ मिले तो बड़ी बात नहीं होगी।इनके अलावा , विनोद चौहान , गुलजार , अकील समेत 14 दावेदार है जो कांग्रेस से दावा ठोक रहे है

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top