UTTRAKHAND NEWS

Big breaking :-क्या राजेंद्र भंडारी को मना लिया पार्टी ने, भंडारी बोले पार्टी का सिपाही हूं पार्टी की नीति रीति आदेश जो भी होगा उस पर काम करूंगा

पिछले कई दिनों से उत्तराखंड कांग्रेस के अंदर गुटबाजी की बातें चल रही है, और खुलकर बयानबाजियां भी चल रही है.साथ ही यह भी खबर चल रही थी कि कांग्रेस के 10 से ज्यादा विधायक पार्टी से बहुत नाराज हैं और वो सभी विधायक किसी भी वक्त एक महत्वपूर्ण बैठक कर सकते हैं. बावजूद इसके 1 सप्ताह होने को खत्म है लेकिन कांग्रेस के किसी भी विधायक ने कोई बैठक अभी तक नहीं की है।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking :-मौसम विभाग ने उत्तराखण्ड में 23-24 मई को ऑरेंज अलर्ट जारी, केदारनाथ को लेकर पुलिस विभाग के ये निर्देश

 

 

वहीं जब कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक राजेंद्र भंडारी से यह पूछा गया कि क्या वह भी पार्टी से नाराज है तो उन्होंने इस बात से साफ इंकार करते हुए कहा कि कि किसी एक विधायक ने अगर यह कहा है कि वह नाराज है तो आप 10 विधायकों का नाम कैसे ले रहे हैं मेरी पार्टी से व्यक्तिगत नाराजगी हो सकती है पर मैं पार्टी का एक अनुशासित सिपाही हूं और मेरी व्यक्तिगत नाराजगी कोई मायने नहीं रखती है।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking :-क्या बात शिक्षा मंत्री के गृह जनपद में क्यों काम नहीं करना चाहते शिक्षा विभाग के अधिकारी

 

पहले पार्टी का सिपाही हूं पार्टी की नीति रीति आदेश जो भी होगा उस पर काम करूंगा.
उन्होंने कहा की मै चार दिन से प्रदेश से बाहर हूं और इसी को लेकर सभी कह रहे हैं की राजेंद्र भंडारी भी नाराज है, राजेंद्र भंडारी भी बैठक कर रहा है लेकिन ऐसा कुछ नही आज मीडिया और विपक्ष दोनों का मजबूत होना बहुत जरूरी है.

यह भी पढ़ें👉  Big breaking :-उत्तराखंड शिक्षा विभाग से बड़ी खबर, प्राइवेट स्कूलों में गरीब छात्रों की निशुल्क पढ़ाई के लिए लॉटरी जारी, फिर भी 50 प्रतिशत सीटें रह गई खाली

 

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 गूगल न्यूज़ ऐप पर फॉलो करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top