UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-हाल में हुए फेरबदल के बाद IAS राधिका झा गई लंबी छुट्टी पर , क्या सरकार के फैसले से है नाराजगी

देहरादून। आईएएस लाबी में हुए ताजातरीन फेरबदल को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है। पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के कार्यकाल में सत्ता की धुरी रही आईएएस राधिका झा लंबी छुट्टी पर चली गयी हैं। सूत्रों के मुताबिक राधिका झा ने चाइल्ड केअर लीव  के तहत लंबी छुट्टी ली है। सूत्रों के मुताबिक राधिका झा ने मार्च 2022 तक CCL ली है।सत्ता के गलियारों में राधिका झा से विद्यालयी शिक्षा हटाने की सुगबुगाहट शुरू हो गयी थी। ब्यूरोक्रेसी कॉरिडोर में यह भनक लगते ही आईएएस राधिका झा ने CCL की एप्लीकेशन दे कर लंबी छुट्टी ले ली।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-सुनिए देवस्थानम बोर्ड भंग करने की घोषणा करते हुए सीएम ने क्या कहा

सत्ता से जुड़े सूत्रों के मुताबिक शिक्षा विभाग में टेबलेट खरीद को लेकर अंदरखाने एक राय नहीं बन पा रही थी। राज्य सरकार स्टूडेंट्स के बीच यह टेबलेट बांटेगी। सूत्रों के मुताबिक आईएएस राधिका झा के इस फाइल में एक नोट को लेकर उच्च स्तर पर खलबली मच गई इसके बाद ही शासन ने राधिका झा से विद्यालयी शिक्षा की जिम्मेदारी वापस लेने का फैसला किया। इस बदलाव के बाद राधिका झा सिर्फ निवेश आयुक्त की जिम्मेदारी ही रह गयी।

 

इस फेरबदल की सूचना लीक होते ही राधिका झा ने लंबी चाइल्ड केअर लीव ले ली। त्रिवेंद्र रावत के समय लगभग 4 साल से भाजपा सरकार में कद्दावर विभाग संभाल चुकी धामी सरकार में लंबी छुट्टी ओर चले जाना सत्ता के गलियारों में कई सवाल छोड़ गया।
2 अक्टूबर के फेरबदल में सूचना सचिव दिलीप जावलकर को भी झटका दिया गया। भाजपा के दो पूर्व सीएम त्रिवेंद्र व तीरथ सिंह रावत के समय से सूचना जैसा महत्वपूर्ण विभाग देख रहे दिलीप जावलकर से यह जिम्मेदारी वापस ले लेना भी नौकरशाही को नया संदेश माना जा रहा है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-उप्र. शिक्षक पात्रता परीक्षा में सेंध लगाने वाले साल्वर उत्तराखंड टीईटी में भी शामिल हुए थे , क्या यहाँ भी की गड़बड़

 

वो भी तब जब सचिव जावलकर अपने पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज के साथ मुंबई में फिल्म जगत से जुड़े निर्माता निर्देशकों को उत्तराखण्ड में शूटिंग के न्योता दे रहे थे।दरअसल, कुछ समय पहले हुए फेरबदल में जावलकर को दिल्ली में स्थानिक आयुक्त कार्यालय की जिम्मेदारी दी गयी थी। लेकिन तुरंत ही जावलकर से यह जिम्मेदारी हटा दी गयी थी। तर्क दिया गया कि वो मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट बद्री केदार के पुनर्निर्माण का महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट भी देख रहे हैं। इस प्रोजेक्ट को लेकर पीएम मोदी के सलाहकार भाष्कर खुल्बे हाल ही में बद्री केदार का दौरा कर महत्वपूर्ण फीडबैक ले गए।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:- Electric Vehicle के भविष्य को देखते हुए MDDA ने लिया ये बड़ा फैसला , अब अनिवार्य रूप से करना होगा ये काम

 

Ad
Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top