UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-हरीश की नाराजगी झेलने की स्थिति में नहीं कांग्रेस , वरना 2022 की सत्ता की जंग में पिछड़ सकती है कांग्रेस , क्या जल्द होने जा रही देवेंद्र की उत्तराखंड से छुट्टी

उत्तराखंड में हरीश रावत और प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव के बीच जो सियासी जंग शुरू हुई है उसके जल्दी परिणाम भी निकल के सामने आ सकते हैं माना जा रहा है की पार्टी आला कमान हरीश रावत को नाराज करने का खामियाजा नहीं भुगतना ही है क्योंकि हरीश रावत ही एकमात्र चेहरा है जिनके बलबूते उत्तराखंड में कांग्रेस की स्थिति लगातार मजबूत हो रही है इसके अलावा जो भी नेता उत्तराखंड के हैं उनकी स्वीकार्यता उनकी विधानसभाओं से बाहर नजर नहीं आती ऐसे में हरीश रावत को नाराज करने का मतलब होगा कि कांग्रेस की 2022 की जीत की संभावनाओं को धक्का लगना ऐसे में या तो पार्टी जल्द ही हरीश रावत को मुख्यमंत्री के चेहरे के रूप में घोषित कर सकती है और साथ ही प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव को भी उत्तराखंड से रवाना किया जा सकता है माना जा रहा है कि केवल हरीश रावत ही नहीं पार्टी का एक बड़ा धड़ा जो हरीश रावत के करीबी नहीं भी माने जाते हैं वह भी प्रदेश प्रभारी के रवैया से खासे नाराज हैं ऐसे में चुनाव से पहले बदलाव संभव हो सकता है।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-बीजेपी प्रदेश कार्यालय में कांग्रेसी नेता राजपाल ने थामा बीजेपी का दामन , देशराज के समर्थकों ने सांसद निशंक के खिलाफ लगाए नारे , देखिए वीडियो

वैसे भी उत्तराखंड में प्रभारियों के साथ हरीश रावत का बहुत अच्छा संबंध नहीं रहा है देवेंद्र यादव से पहले प्रदेश प्रभारी रहे अनुग्रह नारायण सिंह से भी हरीश रावत के संबंध बहुत कुछ खास नहीं रहे माना जाता था की अनुग्रह नारायण सिंह नेता प्रतिपक्ष रही इंद्रा हिरदेश और प्रीतम सिंह के प्रभाव में रहकर फैसले लेते थे वही वर्तमान प्रदेश प्रभारी से हरीश रावत के संबंध बहुत अच्छे नहीं हैं वह हरीश रावत के ट्वीट से पता लग जाता है

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-हरीश रावत ने बताया रामनगर से क्यों लड़ रहे चुनाव , रंजीत रावत को लेकर कही ये बड़ी बात

 

 

साफ है उत्तराखंड में कांग्रेस की चुनावी संभावनाओं को अपने कंधे पर उठा कर चल रहे दिग्गज नेता हरीश रावत ने चुनावी रीति-नीति के संचालन की स्वतंत्रता देने की बजाय उनकी घेरेबंदी किए जाने का खुले तौर पर सवाल उठाते हुए पार्टी में भारी हलचल मचा दी है। रावत ने पार्टी हाईकमान के सिपहसालारों की इस कोशिश पर अपनी व्यथा का सार्वजनिक इजहार कर चुनावों को लेकर कांग्रेस नेतृत्व की रणनीति पर गंभीर सवाल उठाते हुए उन्हें फ्री हैंड देने का जवाबी दबाव भी बना दिया है।

 

 

 

 

पार्टी सूत्रों ने स्वीकार किया कि हरीश रावत ने चुनावी रणनीति के संचालन में उनके पैर खींचे जाने को लेकर अपनी जो खीज जाहिर की है उसका सीधा निशाना कांग्रेस हाईकमान विशेषकर पूर्व पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी की ओर है। राहुल के करीबी माने जाने वाले नई पीढ़ी के नेता देवेंद्र यादव उत्तराखंड के प्रभारी हैं और सूबे में हाल के दिनों में कई ऐसे लोगों को चुनाव से लेकर संगठन में नियुक्ति करायी हे जो हरीश रावत के विरोधी रहे हैं।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-केंद्रीय कर्मचारियों के लिए बडी खबर , अगली कैबिनेट में सुलझा लिया जाएगा ये बड़ा मुद्दा

 

 

 

अगले कुछ ही महीने में उत्तराखंड में चुनाव होने वाले हैं और ऐसे में अमूमन हर सर्वे में कांग्रेस के सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री के तौर पर सामने आने वाले हरीश रावत के कुछ ऐसे ट्वीट सामने आए हैं जो हाईकमांड से उनकी नाराजगी दिखाते हैं। उन्होंने अपने ट्वीट में अप्रत्यक्ष रूप से कांग्रेस आलाकमान के रवैये पर अंगुली उठाते हुए कुछ ऐसा भी लिख दिया है जिसे कुछ लोग उनके रिटायरमेंट से जोड़कर देख रहे हैं।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top