UTTARKASHI NEWS

Big breaking:-पहाड़ में इलाज के लिए अगर 18 किलोमीटर कंधे पर मरीज ले जाना पड़े , तो पता चलता है विकास कहा पहुँचा है

 

मोरी विकासखंड का लिवाड़ी गांव मूलभूत सुविधाओं के लिए तरस रहा है। स्थिति यह है कि गांव की एक बीमार बुजुर्ग महिला को अस्पताल पहुंचाने के लिए ग्रामीणों को 18 किमी का पैदल सफर तय करना पड़ा। ग्रामीण डंडी कंडी के सहारे बुजुर्ग को सड़क तक लाए और फिर पीएचसी मोरी ले गए।

जहां डॉक्टर ने वृद्धा को हायर सेंटर रेफर कर दिया।विकासखंड मोरी के जखोल-लिवाड़ी निर्माणाधीन मोटर मार्ग का निर्माण कार्य अभी तक पूरा न होने से ग्रामीणों को खासी परेशानी हो रही है। क्षेत्र के लिवाड़ी, फिताड़ी, रेकचा, कासला व हरिपुर गांव को सड़क से जोड़ने के लिए जखोल-लिवाड़ी मोटर मार्ग स्वीकृत किया गया था।

वर्ष 2013 में मोटर मार्ग का निर्माण शुरू हो चुका है, लेकिन अभी तक निर्माण कार्य पूरा नहीं हुआ है। लिवाड़ी गांव निवासी कुला देवी (62) के घुटने में अचानक तेज दर्द शुरू हुआ। ग्रामीणों ने उन्हें 18 किमी पैदल डंडी कंडी के सहारे जखोल सड़क तक पहुंचाया और फिर पीएचसी मोरी। जहां प्राथमिक उपचार के बाद कुला देवी को हायर सेंटर रेफर किया गया। जिला पंचायत सदस्य हाकम सिंह ने बताया कि जखोल लिवाड़ी मोटर मार्ग का निर्माण कार्य वर्ष 2016 में होना था, लेकिन अभी तक सड़क का कटिंग कार्य भी पूरा नहीं किया गया है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-पंजाब में कांग्रेस का सीएम परिवर्तन , उत्तराखंड बीजेपी ने ली चुटकी उत्तराखंड की परिवर्तन यात्रा का असर है पंजाब का परिवर्तन

हाकम सिंह ने बताया कि क्षेत्र में संचार व स्वास्थ्य सुविधाओं का बुरा हाल है। पांच गांवों के एक मात्र एलोपैथिक चिकित्सालय में भी पिछले आठ सालों से ताले लटके हुए हैं। हाकम सिंह ने बताया कि प्रशासन ने डेढ़ वर्ष पूर्व उनके गांव में सेटेलाइट फोन दिया था, जिसे दो दिन पूर्व ही तहसीलदार व स्थानीय राजस्व उपनिरीक्षक वापस ले गए हैं।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-शिक्षा विभाग ने सहायक अध्यापको की नियुक्ति को लेकर जिलो में कार्यवाही तेज की , इस जिले में 21 से 23 सितंबर तक काउंसलिंग होगी शुरू

क्षेत्र में सड़क मार्ग क्षतिग्रस्त है, जिसे पीएमजीएसवाई ने दुरुस्त करना था। लेकिन लगातार मौसम खराब होने के कारण सड़क की मरम्मत नहीं हो पा रही है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-यहाँ पहले जमकर चले लाठी डंडे , फिर हुई पत्थरबाजी

मयूर दीक्षित, डीएम उत्तरकाशी ने कहा कि पीएमजीएसवाई को जल्द मरम्मत के लिए बोल दिया गया है। लिवाड़ी में पीएचसी किराए के भवन पर संचालित होता है। यह स्थायी भवन के लिए भूमि तलाशने के लिए कहा गया है। गांव में दो सेटेेलाइट फोन दिए गए हैं।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top