UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:- यहां हो रहा है जमकर अवैध खनन , मंत्री हरक सिंह को पता चला तो DFO के खिलाफ बैठाई जाँच किया मुख्यालय अटैच

देहरादूनः उत्तराखंड में अवैध खनन को लेकर वन विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत पर यूं तो आरोप लगते रहे हैं, लेकिन इस बार विभागीय मंत्री ने अपनी ही विधानसभा क्षेत्र में अवैध खनन के मामले में प्रभागीय वन अधिकारी दीपक सिंह पर कार्रवाई की है। लैंसडाउन के डीएफओ को वन मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने वन मुख्यालय में अटैच कर दिया है।

 

 

 

दरअसल, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी हाल ही में अवैध खनन को लेकर विपक्ष के निशाने पर थे। आरोप था कि मुख्यमंत्री कार्यालय से अवैध खनन की गाड़ियों को छुड़ाने के लिए पत्र लिखा गया था। इसी पत्र को दिखाते हुए मुख्यमंत्री पर अवैध खनन कराने का आरोप (pushkar dhami pro letter viral) लगाते हुए सदन के अंदर कांग्रेस के विधायकों ने जमकर हंगामा किया था, लेकिन शायद सरकार में बैठे अधिकारी खनन को लेकर अपना रवैया बदलने को तैयार नहीं है।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-अजय कुमार ने संयुक्त निदेशक (प०), आयकर , लखनऊ के पद पर कार्यभार ग्रहण किया , यहाँ का मिला अतिरिक्त कार्यभार

 

 

ताजा मामला वन मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत के गृह जनपद का है। जहां पर वन क्षेत्र में अवैध खनन की पुष्टि हुई है। खास बात ये है कि वन मंत्री हरक सिंह रावत ने इस मामले में फौरन लैंसडाउन डीएफओ दीपक सिंह पर कार्रवाई करते हुए उन्हें वन मुख्यालय में अटैच कर दिया है। इतना ही नहीं लैंसडाउन के डीएफओ के खिलाफ जांच भी बैठाई गई है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-NEWS HEIGHT की खबर पर मोहर , बीजेपी ने किया हरक सिंह रावत को बर्खास्त मंत्री मंडल से भी हुए कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत बर्खास्त

 

 

 

बता दें कि लैंसडाउन वन क्षेत्र में लगातार अवैध खनन की शिकायतें मिल रही थी। जिसको देखते हुए वन मंत्री हरक सिंह रावत ने इस मामले में गढ़वाल चीफ सुशांत पटनायक को जांच करवाने के आदेश दिए थे। इस मामले में जांच टीम ने पाया कि इस क्षेत्र में अवैध खनन किया जा रहा था। जिसके बाद फौरन वन मंत्री ने इस मामले में कार्रवाई की है।

 

 

 

 

वहीं, मामले में वन मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने कहा कि चौंकाने वाली बात है कि उन्हीं की विधानसभा में अवैध खनन का काम चल रहा है और उनकी छवि को खराब करने की कोशिश की गई है। ऐसे में यदि डीएफओ  पर आरोप सिद्ध होते हैं तो उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-हरक सिंह रावत का है गजब का जलवा , वही कांग्रेस में शामिल भी नहीं हुए विधायक पहले ही करने लगे विरोध

 

 

 

वहीं, मामले में डीएफओ दीपक सिंह ने सभी आरोपों को निराधार बताया है। उनका कहना है कि इस मामले में उन्होंने उच्चाधिकारियों से बात की है। फिलहाल, उन्हें अभी तक वन मुख्यालय अटैच करने का कोई आदेश प्राप्त नहीं हुआ है।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top