UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-घसियारी योजना बीजेपी की भिड़ रहे कांग्रेसी , अब किशोर उपाध्याय के बयान पर हरीश रावत का पलटवार

भाजपा सरकार की घसियारी  योजना पर कांग्रेसी एक दूसरे से ही भिड़े जा रहे हैं जी हां हरीश रावत जहां घसियारी नाम पर सवाल खड़े कर रहे हैं वही किशोर उपाध्याय इस नाम को सही बता रहे हैं ऐसे में अब एक दूसरे के निशाने पर हरीश रावत और किशोर उपाध्याय हैं

 

 

 

किशोर उपाध्याय के बयान पर हरीश रावत ने फेसबुक पर लिखा जी घसियारी संबोधन पर उठी आपत्ति के बाद सवाल किया जा सकता है कि हमने इस क्षेत्र में क्या कदम उठाया! हमने दुग्ध बोनस और दुग्ध समितियों को सक्षम बनाने के लिए उनको चीज बनाने से लेकर पनीर आदि तैयार करने के लिए प्रोत्साहित किया और चारा सुगमता से सुलभ हो इसलिये हमने चौड़ी पत्ती के वृक्ष जो चारा प्रजाति के हैं, जैसे भीमल, खड़क, गेठी आदि पर वृक्ष बोनस योजना शुरू की।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-बढ़ते कोरोना के खतरे से सतर्क सरकार ,बाहरी राज्यों से आने वाले यात्रियों की चेकिंग और कोविड जांच करने के निर्देश

 

वृक्ष की 3 साल तक रक्षा करने पर ₹300 प्रति वृक्ष बोनस उपलब्ध करवाया। हमने कालसी में चाटन भेली योजना प्रारंभ की और हर जिले में एक चाटन भेली प्रोजेक्ट लगाने जिसमें सीरे के साथ पौष्टिक तत्वों का समावेश कर घास और भूसे के ईट बनाकर उनको उपलब्ध करवाया और उस पर सब्सिडी दी, आज भी सरकार करेगी तो यही करेगी जो हमने प्रारंभ किया, मगर नाम घसियारी दिया। मेरी माँ गृह लक्ष्मी थी, मेरी माँ अन्नपूर्णा थी, मेरी माँ सृष्टि पालक थी, लेकिन अपने घर के गाय-भैंसों के लिए घास भी लाती थी, कपड़े भी धोती थी, घर का झाड़ू वगैरह भी करती थी और दूसरे सब पारिवारिक काम करती थी।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-किसानों को साधने में जुटी धामी सरकार , पहली बार किसी सरकार ने 28 रुपए बढ़ाया गन्ना मूल्य , केंद्र ने आज कृषि कानूनों को लेकर भी किया बड़ा काम

 

 

मगर उसको कोई ऐसा संबोधन नहीं दिया गया, किसी ने हिम्मत नहीं कि जो उसकी अवमानना करता। यदि मेरे किसी दोस्त को मेरे इस विरोध में कुछ तकलीफ पहुंच रही है तो वो स्वतंत्र हैं, जिस नाम से भी संबोधन करना चाहें लेकिन मैं तो अपनी माँ को देवी, लक्ष्मी, अन्नपूर्णा आदि स्वरूपों में ही देखता हूंँ और उसी नाम से संबोधित भी करता हूंँ, चाहे मन ही मन में करता हूंँ।

Ad
Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top