UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-एसओजी टीम पर हमला करने वाले चार आरोपी दबोच लिये गये , मुख्य आरोपी अभी भी फरार

 

लूट में शामिल होने और घर में हथियार रखे होने के संदेह में जांच के लिए गयी एसओजी टीम पर हमला करने वाले चार आरोपी दबोच लिये गये हैं। मुख्य आरोपी अब भी फरार है, उसकी और अन्य की तलाश में पुलिस टीमें लगातार दबिश दे रही हैं। छह संदिग्धों को भी हिरासत में लिया गया है। रुद्रपुर में 12 जुलाई को सेल्समैन से लगभग 12 लाख रुपये की लूट हुयी थी।

इसके खुलासे में जुटी एसओजी टीम को वारदात के दौरान घटनास्थल पर चालू कुछ संदिग्ध फोन की लोकेशन दिनेशपुर में मिली थी। इसे लेकर टीम कुछ दिन से दिनेशपुर में जांच कर रही थी। शनिवार रात मुखबिर से एसओजी को सूचना मिली कि लूट के तार जगदीशपुर गांव के निरंजन मंडल से जुड़े हैं, उसके घर हथियारों का जखीरा होने की आशंका भी जतायी गयी।

इस पर एसओजी प्रभारी कमलेश भट्ट के निर्देश पर टीम प्रभारी सुरेंद्र प्रताप सिंह के नेतृत्व में एक टीम देर शाम निरंजन मंडल के घर पर पहुंची। टीम को देखते ही निरंजन घर की खिड़की तोड़कर भाग निकला। उसकी पत्नी चंपा ने घर में बदमाशों के घुसने का शोर मचा दिया। इस पर गांव के लोग जुट गये और टीम को बंधक बनाकर मारपीट शुरू कर दी।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-स्टाफ नर्स चयन प्रक्रिया फिर शुरू , शासन ने दिए निर्देश, इस बार चिकित्सा सेवा चयन बोर्ड कराएगा परीक्षा

मारपीट में टीम प्रभारी सिंह के सिर पर गहरी चोट आयी है। आरोप है कि टीम में शामिल महिला कांस्टेबल से भी अभद्रता की गयी। बाद में टीम ने किसी तरह दिनेशपुर पुलिस को सूचना दी। जानकारी पर एसपी सिटी ममता बोहरा, दिनेशपुर एसओ अशोक कुमार और अन्य पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और टीम को छुड़ाया।
मामले में निरंजन मंडल समेत दस के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। इसके बाद देर रात ही दिनेशपुर थानाध्यक्ष अशोक कुमार, एसआई जितेंद्र बिष्ट, नवीन चंद्र सहित अन्य पुलिस कर्मियों ने आरोपियों की तलाश शुरू कर दी थी। देर रात राकेश अधिकारी पुत्र कालीपद, मनोज अधिकारी पुत्र मुकुंद अधिकारी, राजेश अधिकारी पुत्र सुखरंजन, चम्पा मंडल पत्नी निरंजन मंडल को गिरफ्तार कर लिया गया। कोर्ट में पेशी के बाद उन्हें जेल भेज दिया गया।
उधर, मुख्य आरोपी निरंजन सहित छह लोग फरार हैं। सीओ आशीष भारद्वाज ने बताया कि पुलिस जल्द ही फरार आरोपियों को हिरासत में ले लेगी। उधर, देर शाम छह अन्य संदिग्ध हिरासत में लिये गये थे।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-संपत्ति और साजिश में जमकर चला खूनी खेल , तीन दशकों में कई संत गंवा चुके जान , कई अभी तक लापता
Ad
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top