UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-हरदा को पुराने दिनों की याद दिलाकर , उत्तराखंडियत के घाव दिखा रहे पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय

Uttrakhand news :-कभी हरीश रावत के खासम खास माने जाने वाले किशोर उपाध्याय अब कई सवाल खड़े करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ते आज कांग्रेस के नए प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल को कार्यभार ग्रहण करना है और पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत अपने इस खास और नए सिपहसालार को कुर्सी पर बैठाने पहुंच रहे हैं लेकिन इसी बीच किशोर उपाध्याय ने हरीश रावत को बीते दिनों की याद दिलाते हुए उत्तराखंडियत  के घाव दिखाने की कोशिश की है किशोर उपाध्याय ने कहा कि ” आज ज़ब हमारे युवा यशस्वी अध्यक्ष गणेश गोदियाल जी कार्यभार ग्रहण कर रहे हैं और पूर्व मुख्यमंत्री अनुभवी हरीश रावत जी का “उत्तराखंडियत” को परिभाषित करने वाला सारगर्भित लेख प्रकाशित हुआ है, आज ही के दिन 2015 को कांग्रेस प्रतिनिधि मण्डल ने उन्हें मिलकर निम्न अनुरोध किये थे, आज भी उत्तराखंडियत की आत्मा पर लगे ये घाव उतने ही पीड़ा दायक हैं।
आपके संज्ञानार्थ:-

“प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री किशोर उपाध्याय ने आज एक शिष्टमंडल के साथ मुख्यमंत्री निवास जाकर सूबे के मुख्यमंत्री श्री हरीश रावत को सौंपा ज्ञापन ।
.
देहरादून/ उत्तराखंड/ 27 जुलाई, 2015

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री किशोर उपाध्याय ने आज एक शिष्टमंडल के साथ मुख्यमंत्री निवास जा कर सूबे के मुख्यमंत्री श्री हरीश रावत को राज्य गठन से लेकर अब तक राज्य में हुई अनियमितताओं, भ्रष्टाचार एवं घोटालों की जाँच के सम्बन्ध में एक ज्ञापन सौंपा ।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री किशोर उपाध्याय ने मुख्यमंत्री को दिए ज्ञापन के माध्यम से कहा कि उत्तराखंड राज्य का निर्माण एक ऐतिहासिक अहिंसात्मक आंदोलन के पश्चात हुआ जिसमें राज्य के अनेकों लोग शहीद हुए थे ।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:- यहाँ 2 इंस्पेक्टर और 5 दरोगा हो गए इधर के उधर

उन्होंने कहा कि राज्य का गठन देवभूमि के विकास की सोच के साथ हुआ था लेकिन राज्य गठन के पश्चात शुरुआती दौर से ही सूबे की प्रथम बीजेपी की अंतरिम सरकार ने राज्य निर्माण की भावनाओं को ताक पर रखते हुए निजी स्वार्थों को आगे रखा । प्रथम अंतरिम सरकार तथा उसके बाद 2007-2012 में आई बीजेपी के कार्यकाल में अनेकों घोटालों और भ्रष्टाचार ने राज्य निर्माण की बुनियाद को कमजोर करने के साथ देश में देवभूमि उत्तराखडं की छवि को धूमिल करने का काम किया है । बीजेपी के शासन काल में घोटालों की कुल संख्या 419 आंकी गई थी जिस पर श्री सतपाल महाराज द्वारा भी सहमति व्यक्त की गई थी जो वर्तमान में बीजेपी के केंद्रीय नेता हैं ।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-हरक की मेहनत लाई रंग , लखवाड बहुउद्देशीय परियोजना 300 मेगावाट योजना को लेकर आया बड़ा अपडेट

श्री किशोर उपाध्याय ने ज्ञापन के माध्यम से भाजपा के कार्यकाल में हुए कुछ बड़े घोटालों पर मुख्यमंत्री का ध्यान आकर्षित किया जिनमें –
1. करोड़ों रूपये का जमीन घोटाला
2. भाजपा प्रदेश मुख्यालय में हुई लाखों की चोरी का मामला (2002)
3. कुम्भ घोटाला (2010)
4. आपदा मद घोटाला (2010)
5. स्ट्रुडिया घोटाला
6. जल विद्युत परियोज़ना आबंटन घोटाला
7. राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन घोटाला (2007-2012)
8. एफ एल -05 घोटाला
9. राजधानी निम्न घोटाला
10. सैफ गेम घोटाला
11. ढेंचा बीज खरीद घोटाला
12. लोक निर्माण विभाग में ठेके आबंटन में घोटाला
13. मुख्यमंत्री आवास निर्माण में घोटाला
14. नियुक्ति घोटाला
15. मातृ सदन के स्वामी स्व निगमानंद की भूख हड़ताल से हुई मौत का मामला
16. आबकारी घोटाला – सरकारी एजेंसियों से शराब का थोक कार्य निजी शराब माफियों को दिया (2007)

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-STF को बड़ी कामयाबी ,शातिर ठगों को महाराष्ट्र से किया गिरफ्तार

उपरोक्त तमाम घोटालों के आरोप मात्र कांग्रेस नहीं लगा रही है बल्कि भाजपा के एक पूर्व मुख्यमंत्री ने अपनी ही पार्टी के 2011 के तत्कालीन मुख्यमंत्री को भ्रष्टतम मुख्यमंत्री की संज्ञा से नवाज़ा था ।

मुख्यमंत्री को सौंपे ज्ञापन के द्वारा माननीय मुख्यमंत्री से आग्रह किया है कि राज्य गठन से लेकर अब तक राज्य में जो भी ऐसे प्रकरण हुए हों जिनसे घोटाले की बू आती हो, उन पर विधिवत जाँच की जाये और जिनकी जाँच पूर्ण हो चुकी है उन पर नियमानुसार और समयबद्ध कार्यवाही की जाये ।

साथ में यह भी आग्रह किया है कि इसके दायरे में 2002 से लेकर अब तक की कांग्रेस की सरकार के कार्यकालों की यथानुसार जांच की जाये, ताकि माँ गंगा की जननी देवभूमि उत्तराखंड की पतित पावनी धरती की गरिमा अक्षुण्ण रह सके ।

मुख्यमंत्री को सौंपे ज्ञापन की प्रति संलग्न हैं ।
किशोर उपाध्याय
पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष

Ad
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top