उत्तराखंड

Big breaking:-कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए सख्त हुआ भारत , चीन समेत 99 देशों के यात्रियों को सख्त नियमों का करना होगा पालन

नई दिल्ली, भारत ने सोमवार को कहा कि ब्रिटेन, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, बांग्लादेश, बोत्सवाना, चीन, मॉरीशस, न्यूजीलैंड, जिम्बाब्वे और सिंगापुर सहित यूरोप के देशों से आने वाले यात्रियों को भारत आगमन पर अतिरिक्त उपायों का पालन करने की जरूरत होगी. इसमें भारत आने के बाद कोविड-19 टेस्टिंग भी शामिल है. इसके साथ ही अमेरिका, यूएई, कतर, फ्रांस और जर्मनी सहित 99 देशों से आने वाले उन यात्रियों को क्वारंटाइन मुक्त आगमन की इजाजत दी गई है, जिन्होंने अपना पूरा टीकाकरण (अनुमोदित जब्स के साथ) करा लिया है.

 

 

 

 

 

यह निर्णय ऐसे समय में आया है, जबकि देश ने विदेशी पर्यटकों को गैर-चार्टर पर अनुमति दी है. भारत ने पिछले मार्च में टूरिस्ट वीजा निलंबित कर दिया था और 15 अक्टूबर से उन्हें चार्टर पर मंजूरी देकर फिर से शुरू कर दिया था. भारत के लिए प्रस्थान के 72 घंटों के भीतर एक कोविड नकारात्मक रिपोर्ट के अलावा इन 99 देशों (जिन्हें श्रेणी ए कहा जाता है) के यात्रियों को भी एयर सुविधा पोर्टल पर अपना पूर्ण टीकाकरण प्रमाण पत्र अपलोड करना होगा.

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:- 4 दिसंबर को पीएम मोदी देहरादून में , ये यातायात प्लान देखकर ही घर से निकले बाहर , परीक्षा देने वाले छात्रों के लिए भी विशेष जानकारी

 

 

 

 

 

स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी की गाइडलाइंस 11 नवंबर को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देश के मुताबिक, “ऐसे देश हैं जिनका भारत के साथ राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त या डब्ल्यूएचओ द्वारा मान्यता प्राप्त टीकों के टीकाकरण प्रमाणपत्रों की पारस्परिक मान्यता पर एक समझौता है. इसी तरह, ऐसे देश हैं जिनका वर्तमान में भारत के साथ ऐसा कोई समझौता नहीं है, लेकिन वे भारतीय नागरिकों को राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त या डब्ल्यूएचओ द्वारा मान्यता प्राप्त टीकों से पूरी तरह से छूट देते हैं.

 

 

 

 

 

पारस्परिकता के आधार पर, ऐसे सभी देशों के यात्री जो भारतीयों को क्वारंटाइन फ्री प्रवेश प्रदान करते हैं, उन्हें आगमन (श्रेणी ए देश) पर कुछ छूट दी जाती है.”श्रेणी ए देशों के लिए ये है दिशानिर्देश श्रेणी ए देशों से पूरा टीकाकरण कर आने वालों के लिए दिशानिर्देश में कहा गया है: “यदि कोई यात्री ऐसे देश से आ रहा है जिसके साथ भारत में डब्ल्यूएचओ द्वारा अनुमोदित कोविड -19 टीकों (श्रेणी ए) की पारस्परिक स्वीकृति के लिए पारस्परिक व्यवस्था है, यदि पूरी तरह से टीका लगाया गया है, तो उन्हें हवाईअड्डे से बाहर निकलने की अनुमति दी जाएगी और आगमन के बाद 14 दिनों तक वे अपने स्वास्थ्य की स्वयं निगरानी करेंगे.”

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-अपने पोतों को देखने आई बुजुर्ग महिला को गुलदार ने बनाया निवाला , गाँव मे हड़कंप

 

 

 

 

 

इन देशों के यात्रियों को करनी होगी स्वयं की निगरानी कुछ देशों को वर्तमान में भारत द्वारा कोविड के दृष्टिकोण से “जोखिम में” रखा गया है, जिसमें यूके, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, बांग्लादेश, बोत्सवाना, चीन, मॉरीशस, न्यूजीलैंड, जिम्बाब्वे और सिंगापुर सहित यूरोप के देश शामिल हैं. इसमें कहा गया है, “जोखिम वाले देशों को छोड़कर अन्य देशों के यात्रियों को हवाई अड्डे से बाहर जाने की अनुमति होगी और आगमन के बाद 14 दिनों के लिए वे अपने स्वास्थ्य की स्वयं निगरानी करेंगे. यह उन देशों सहित सभी देशों के यात्रियों पर लागू होता है, जिनके साथ डब्ल्यूएचओ द्वारा अनुमोदित कोविड -19 टीकों की पारस्परिक स्वीकृति के लिए पारस्परिक व्यवस्था भी मौजूद है.”

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-पीएम मोदी की रैली से पहले उत्तराखंड पुलिस के 26 जवान कोरोना संक्रमित

 

 

 

 

 

जोखिम वाली श्रेणी में आने वाले देश, जिन्हें स्वास्थ्य मंत्रालय की श्रेणी ए में जगह दी गई है जैसे यूके, सिंगा और जिम्बाब्वे से आने वाले उन यात्रियों को जिनका पूरा टीकाकरण हो चुका है, उन्हें हवाई अड्डे से बाहर जाने की अनुमति दी जाएगी और आगमन के बाद 14 दिनों के लिए वे अपने स्वास्थ्य की स्वयं निगरानी करेंगे.

Ad
Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top