UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-चौथे साल में तीन सीएम बदलने वाली भाजपा लगातार सर्वे में खो रही बढ़त , आज आए इस सर्वे में नेक टू नेक हो गया मामला

 

देहरादून। लगभग 4 साल तक भाजपा की जीरो टॉलरेंस की नीति को आगे बढ़ाने वाले त्रिवेंद्र सिंह रावत को बदलने का फैसला क्या अब भाजपा को ही भारी पड़ने लगा है। क्या आखिरी साल में 3 सीएम बदलने का रिस्क लेने वाली भाजपा की रणनीति फेल हो गई। ये वो तमाम सवाल हैं जो सियासी माहौल में इन दिनों खूब चर्चाएं बटोर रहे हैं।

 

 

 

 

जी हां, जिस तरह से भाजपा ने प्रदेश में त्रिवेंद्र के सीएम रहते हुए कांग्रेस पर बढ़त बनाई हुई थी उसे अब भाजपा पूरी तरह से खोती नजर आ रही है। स्थानीय स्तर पर भरोसेमंद चैनल के पिछले एक साल के समय समय पर आए सर्वे के नतीजे तो यही इशारा कर रहे हैं कि उत्त्तराखण्ड में भाजपा की पकड़ ढीली पड़ रही है और कांग्रेस लगातार up हो रही है।

 

 

 

 

 

त्रिवेंद्र सिंह रावत 18 मार्च 2021 को अपनी सरकार के 4 साल पूरे करने जा रहे थे लेकिन उससे चंद दिन पहले ही गैरसैंण में ऐतिहासिक कदम उठाने के बाद सदन को संबोधित कर रहे त्रिवेंद्र की अभिमन्यु की तरह तब ऐसी घेराबंदी की गई कि उन्हें अपनी कुर्सी गंवानी पड़ी। गैरसैंण से लेकर देवस्थानम बोर्ड आदि त्रिवेंद्र के वो फैसले थे जो माइलस्टोन समान थे।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-NEWS HEIGHT की खबर का असर , भाजपा प्रत्याशी शक्तिलाल शाह को आचार संहिता के उल्लंघन का नोटिस जारी।

 

 

 

 

 

 

खैर, त्रिवेंद्र के जाने के बाद तीरथ सत्तासीन हुए लेकिन अपने लंपट बयानों से तीरथ ने भाजपा की सियासी हालत इतनी खराब हो गयी कि वे 3 महीने भी पूरे नहीं कर पाए। तीरथ के रहते ये बाते खूब हुई कि इनसे हर दृष्टि से त्रिवेंद्र बेहतर थे।

 

 

 

 

 

इनके बाद सूबे में फिर भाजपा ने नेतृत्व परिवर्तन किया और सारे धुरंधरों के अरमानों पर पानी फेरते हुए पुष्कर सिंह धामी सीएम पद तक पहुँचे। जो विधायक कभी मंत्री भी नहीं बना था उसके सीधा सीएम बनने से कई कद्दावर नेताओं की तो कई रातों तक नींद ही उड़ी रही।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-SSP हरिद्वार के बड़े निर्देश , इनके गनर हो सकते है वापस

 

 

 

 

पुष्कर ने शुरुआत भी सधी हुई की। अपने व्यवहार के कारण वे जल्दी ही प्रदेशभर में बेहद लोकप्रिय हो गए। समय कम होने के बावजूद उन्होंने कुछ फैसले सियासी नफा नुकसान भांपकर लिए और भाजपा के ग्राफ को ऊपर की ओर ले जाते दिखे लेकिन लास्ट के ओवर्स में धामी भी बड़े शॉट खेलने के चक्कर में कुछ गलतियां अनजाने में कर गए। पहले उनके एक pro खनन के वाहनों को छुड़ाने को लेकर चर्चा में आये तो बाद बाद में आचार सहिंता के करीब किये गए तबादले और बैक डोर में हुए तबादलों आदि ने उनकी स्थिति को भी डांवाडोल कर दिया। उनके बेहद करीब कैबिनेट मंत्री के एक सिफारिशी पत्र ने भी खूब सुर्खियां बटोरी। आचार सहिंता तक पहुँचते पहुँचते अपने pro की बहाली का आदेश भी निकाल गए।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-कांग्रेस में सहसपुर में बगावत के सुर , तस्वीरों में दिख रही इस ख़ेमे की एकजुटता , आयेंद्र की क्या फिर बढ़ेगी परेशानी

 

 

 

 

बहरहाल, जो बढ़त धामी ने बनाई थी उन्हें कहीं न कहीं अंतिम क्षणों में गंवाया है। अब चैनल का आज का ताजा सर्वे भी यही इशारा कर रहा है कि सूबे में जो भाजपा कभी comfortable विक्ट्री की ओर थी वो आज संघर्ष की स्थिति में है। हरीश रावत को हल्के में लेने की भाजपा की गलती उसे आने वाले दिनों में पानी भी पिला सकती है। चंद विधायकों और खुद दो दो सीट से हारने के बावजूद जिस तरह हरदा ने कांग्रेस को मजबूत स्थिति में लाया उससे भाजपा नेताओं को सीख लेने की जरूरत है। 5 सालों तक कांग्रेसी गोत्र के नेताओं को ढोना और अंत के एक साल में उनके नखरों, ब्लैकमेलिंग के आगे समर्पण कर देना अब भाजपा को भारी पड़ता दिख रहा है।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top