UTTRAKHAND NEWS

Big breaking :- सीएम धामी के एक्शन से विभागों मे हड़कंप , शिक्षा विभाग ने जारी किए आदेश मंडल ट्रांसफर के आदेश भी देखें

प्रायः देखा जा रहा है कि कार्मिक / अधिकारी विलम्ब से कार्यालय में आते हैं, जिससे जनसमस्याओं का त्वरित निस्तारण नहीं हो पाता है। साथ ही कार्मिकों की इस प्रवृत्ति से विभाग की छवि पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

2- अतः सभी कार्यालयाध्यक्ष / अनुभाग अधिकारी / मुख्य प्रशासनिक अधिकारी यह सुनिश्चित करेगें कि वे स्वयं तथा उनके अधीनस्थ कार्यरत कर्मचारी प्रातः 10.00 बजे तक प्रत्येक दशा में कार्यालय में उपस्थित हो जाएं। यदि कोई अधिकारी / कर्मचारी प्रातः 10.10 बजे बाद कार्यालय में आता है तो उसे प्रथम बार मौखिक चेतावनी द्वितीय बार विलम्ब से आने पर लिखित चेतावनी तथा तृतीय बार विलम्ब से आने पर उसके विरूद्ध वेतन काटने / विभागीय अनुशासनात्मक कार्यवाही प्रारम्भ कर दी जाएगी। यह सम्बन्धित अधिकारी / कर्मचारी की व्यक्तिगत पत्रावली में भी रखी जाएगी।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking :-Indian Railways: रेल यात्र‍ियों के लिए बड़ी खबर! IRCTC ने बदल दिया ट‍िकट बुक‍िंग का न‍ियम, आपका जानना है जरूरी

 

3 यह भी परिज्ञान में आया है कि मध्याहन भोजन के समय एवं इसके उपभोग के बारे में निर्धारित व्यवस्था का अनुपालन नहीं किया जा रहा है, जिससे आम जनता को कार्यालयों में आने पर असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। राजाज्ञा दिनांक 04 जनवरी, 2006 में वर्णित व्यवस्थानुसार मध्याहन भोजन का समय 01.00 बजे अपराह्न से 02.30 बजे अपराह्न के मध्य केवल आधे घण्टे का होगा और इस अवधि में ही प्रत्येक अधिकारी / कर्मचारी मध्याहन भोजन के लिए निर्धारित समय का उपयोग करेगें। विभाग के प्रत्येक कार्यालय में वरिष्ठ अधिकारी / कार्मिक अपने कार्यालय / अनुभाग में कार्यरत कर्मचारियों के आधे घण्टे के मध्याहन भोजन का समय इस प्रकार निर्धारित करेगें कि एक बार में लगभग एक तिहाई कर्मचारी ही मध्याहन भोजन पर जायेंगे। जहां पर एक अधिकारी एवं एकल कर्मचारी ही हों वहां पर वे आपस में मध्याहन भोजन का समय इस प्रकार तय करेगें कि उनमें से एक कार्यालय / अनुभाग में अवश्य उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking :-दादी ने गंगा में लगा दी छलांग, वीडियो हो गया वायरल

अतः विद्यालयी शिक्षा विभाग के अन्तर्गत कार्यरत सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों की कार्यकुशलता, क्षमता में वृद्धि तथा जनसमस्याओं के त्वरित निराकरण एवं विभाग को संवेदनशील, पारदर्शी एवं भ्रष्टाचार मुक्त बनाने के उद्देश्य से निर्देशित किया जाता है कि उत्तराखण्ड शासन के कार्यालय ज्ञाप संख्या 671 दिनांक 20 अगस्त 2009 एवं राजाज्ञा संख्या – 994 दिनांक 04 जनवरी, 2006 में वर्णित उक्त निर्देशों / आदेशों का कड़ाई से परिपालन सुनिश्चित करें / कराएं।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 गूगल न्यूज़ ऐप पर फॉलो करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top