PITHORAGARH NEWS

Big breaking:-बदल रही है तस्वीर , प्राइवेट स्कूलों की जगह अब यहाँ सरकारी की तरफ बढ़ रहे कदम

पिथौरागढ़। प्राइवेट स्कूलों की चकाचौंध से अभिभावकों का मोह भंग होने लगा है। इस शिक्षा सत्र में जिले के सरकारी स्कूलों में दो हजार नए बच्चों ने प्रवेश लिया है। इनमें कई ऐसे विद्यालय भी हैं जो पूर्व में छात्र संख्या शून्य होने के कारण बंद हो गए थे।अभिभावकों का कहना है कि सरकारी स्कूलों में शिक्षा का स्तर प्राइवेट स्कूलों से बेहतर है और फीस भी काफी कम है। प्राइवेट स्कूलों में फीस अधिक होने के कारण उनमें बच्चों को पढ़ाना आसान नहीं है।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-सीएम धामी ने जॉलीग्रांट एयरपोर्ट में आतंकियों से लोहा लेने वाले शहीदों को श्रद्धांजलि दी , सैनिक कल्याण मंत्री और कृषि मंत्री भी रहे मौजूद

पिछले कई सालों से सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों की संख्या घट रही थी। कोरोना काल में सीमांत जनपद के सरकारी स्कूलों के प्रति अभिभावकों का रुझान बढ़ा है।
अभिभावक प्राइवेट स्कूलों में बच्चों के दाखिले करा रहे थे। इस बार जिले के 1024 प्राथमिक विद्यालयों में 2350 नए छात्र-छात्राओं ने पहली कक्षा में प्रवेश लिया है। नए बच्चों के प्रवेश के बाद प्राथमिक विद्यालयों में कुल छात्र संख्या 18242 पहुंच गई है।
जिला शिक्षा अधिकारी एके गुंसाई का कहना है कि सरकारी स्कूूूलों में शिक्षा का स्तर काफी सुधरा है, जिससे अभिभावक अपने बच्चों का सरकारी स्कूलों में दाखिला करवा रहे हैं।

किस ब्लॉक में कितने नए प्रवेश
गंगोलीहाट – 510
धारचूला – 439
विण – 384
मुनस्यारी – 374
मूनाकोट – 245
डीडीहाट – 221
कनालीछीना – 157
बेड़ीनाग – 75

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-यहाँ डॉक्टर समेत पांच घरों में बिजली चोरी पकड़ी गई , कराया गया मुकदमा

चार साल से बंद प्राथमिक विद्यालय ग्वेता में 10 बच्चों ने लिया प्रवेश
पिथौरागढ़। कनालीछीना के ग्वेता प्राथमिक विद्यालय चार साल पूर्व शून्य छात्र संख्या के कारण बंद हो गया था। ग्राम प्रधान रवींद्र कुमार की पहल के बाद यहां 10 बच्चों ने प्रवेश लिया है। चार साल बाद स्कूल के दरवाजे खुलने से बच्चों और अभिभावकों में खुशी का माहौल है

Ad
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top