Delhi news

Big breaking:-CDS विपिन रावत के हैलीकॉप्टर क्रैश की कोर्ट ऑफ इंक्वायरी की रिपोर्ट हुई सार्वजनिक ये बताया गया कारण

भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) ने बताया है, कि सीडीएस जनरल बिपिन रावत (CDS General Bipin Rawat) समेत 14 लोगों की जिस हेलिकॉप्टर दुर्घटना (Helicopter Crash) में मौत हुई थी, उस मामले की जांच के बाद शुरुआती जानकारी सामने आ गई है.

 

 

 

वायु सेना ने सीडीएस बिपिन रावत के चॉपर क्रैश मामले में कहा है कि, कोर्ट ऑफ इंक्वायरी में हेलीकॉप्टर दुर्घटना के कारणों के रूप में यांत्रिक विफलता, तोड़फोड़ या लापरवाही को खारिज किया गया है. वायु सेना ने कहा है कि आठ दिसंबर को अप्रत्याशित ढंग से मौसम में बदलाव के कारण बादलों में प्रवेश के परिणामस्वरूप हेलीकॉप्टर दुर्घटना हुई, जिससे पायलट का स्थानिक भटकाव हुआ.
वायुसेना ने बताया है कि आठ दिसंबर 2021 को Mi-17 V5 हेलिकॉप्टर दुर्घटना की ट्राई-सर्विस जांच ने अपने शुरुआती नतीजों में फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर और कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर का एनालिसिस किया. इसमें कहा कि इस हेलिकॉप्टर दुर्घटना के पीछे मैकेनिकल फेलियर, तोड़फोड़ या लापरवाही का हाथ नहीं है.
प्रारंभिक नतीजों के मुताबिक, घाटी में मौसम की स्थिति में अप्रत्याशित बदलाव देखने को मिला, जिसकी वजह से हेलिकॉप्टर बादलों के बीच जाकर फंस गया और दुर्घटनाग्रस्त हो गया. बादलों की वजह से पायलट को दिशाभ्रम हो गया और हेलिकॉप्टर अनियंत्रित होकर जमीन से जा टकराया.

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-CBSE का बड़ा एक्शन ! परीक्षा में विवादित प्रश्नों के जिम्मेदार दो विशेषज्ञों को हटाया, कमेटी का भी हुआ गठन.

 

 

 

जांच दल ने दुर्घटना के सबसे संभावित कारण का पता लगाने के लिए सभी उपलब्ध गवाहों से पूछताछ की. इसके अलावा फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर और कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर का एनालिसिस किया गया. अपने नतीजों के आधार पर, कोर्ट ऑफ इंक्वायरी ने कुछ सिफारिशें की हैं जिनकी समीक्षा की जा रही है.

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-कोरोना की नई Guideline जारी , यहाँ लगा प्रतिबंध यहां मिली छूट

 

 

 

 

प्रारंभिक नतीजों के मुताबिक, घाटी में मौसम की स्थिति में अप्रत्याशित बदलाव देखने को मिला, जिसकी वजह से हेलिकॉप्टर बादलों के बीच जाकर फंस गया और दुर्घटनाग्रस्त हो गया. बादलों की वजह से पायलट को दिशाभ्रम हो गया औ, हेलिकॉप्टर अनियंत्रित होकर जमीन से जा टकराया.

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-आयुर्वेदिक विश्वविद्यालय में कुलपति और मृत्युंजय मिश्रा के बीच चल रही जंग से बढ़ी कार्मिकों की परेशानी , नही मिला दिसंबर माह का भी वेतन

 

 

 

जांच दल ने दुर्घटना के सबसे संभावित कारण का पता लगाने के लिए सभी उपलब्ध गवाहों से पूछताछ की. इसके अलावा फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर और कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर का एनालिसिस किया गया. अपने नतीजों के आधार पर, कोर्ट ऑफ इंक्वायरी ने कुछ सिफारिशें की हैं जिनकी समीक्षा की जा रही है.

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top