UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-उत्तराखंड पुलिस के चर्चित निर्विकार दरोगा प्रकरण में दर्ज दोनों मुकदमें कोर्ट से वापस हो गए

उत्तराखंड पुलिस के चर्चित निर्विकार दरोगा प्रकरण में दर्ज दोनों मुकदमें कोर्ट से वापस हो गए हैं। मामला तत्कालीन डीजीपी बीएस सिद्धू के खिलाफ प्रेस वार्ता करने और इसके इलेक्ट्रानिक मीडिया में प्रसारित होने से जुड़ा है। इस संबंध में सरकार के प्रार्थनापत्रों को स्वीकार करते हुए कोर्ट ने इन मुकदमों का निपटारा कर दिया है। निर्विकार पर आरोप था कि उन्होंने बिना उच्चाधि‌कारियों को बताए अपने तत्कालीन डीजीपी व अन्य पर आरोप लगाते हुए मीडिया को संबोधित किया था। हाल में वह रिटायर हो गए हैं।

 

 

 

 

मामला वर्ष 2014 का है। उस वक्त दरोगा निर्विकार चौधरी तत्कालीन डीजीपी बीएस सिद्धू पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाने पर सुर्खियों में आए थे। दावा था कि एक मुदकमे की जांच के दौरान उन्होंने पाया था कि वन विभाग की संरक्षित भूमि की खरीद फरोख्त में तत्कालीन डीजीपी की भी मिलीभगत है। उन्होंने 17 मई 2014 को एक होटल में प्रेस कांफ्रेंस की। उनके खिलाफ थाना कोतवाली में पुलिस बल अधिकारी का निर्वंधन अधिनियम 1966 की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया था।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-हरक सिंह ने कभी नहीं सोचा होगा राजनीति में ये दिन भी देखने होगे , 2012 में इसी कांग्रेस में बांटे टिकट , आज खुद के टिकट के भी लाले , 2016 में कई थे साथ आज रह गए अकेले

 

 

 

 

साथ ही निलंबित कर दिया गया था। इसके बाद उन्होंने एक टीवी चैनल में भी अपना बयान जारी कर इन आरोपों को दोहराया था। इसे लेकर उनके खिलाफ एक और मुकदमा इन्हीं धाराओं में दर्ज किया गया। इनमें से एक मुकदमा सीजेएम कोर्ट में चल रहा था। दूसरा मामला एसीजेएम तृतीय कोर्ट में था। गत सितंबर को शासन ने इन मुकदमों को वापस लेने को कोर्ट में प्रार्थनापत्र दिया गया था। निर्विकार चौधरी के अधिवक्ता एसके धर ने बताया कि इन मामलों में दूसरे पक्ष को भी सुना गया। इसमें उन्होंने अपील की थी कि वह जनहित में नहीं हैं। कोर्ट ने इन तर्कों को खारिज करते हुए मुकदमों वापस लेने के सरकार के प्रार्थनापत्रों को स्वीकार कर लिया है।

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-LPG Latest Price , एलपीजी सिलेंडर मात्र 566 रुपये में घर लाएं , महज 68 रुपये अधिक खर्च करके पाएं दोगुनी गैस

 

 

 

 

 

कोर्ट ने दोनों मुकदमों का ही निपटारा कर दिया गया है। उधर दरोगा निर्विकार ने कहा कि जांच में सही तरीके से करने के बावजूद उनपर तरह तरह की कार्रवाई की गई। कहा कि रिटायर होने पर उन्हें ग्रेच्युटी नहीं मिली। पेशन भी प्रोविजनल दी जा रही थी। केस वापस होने पर राहत की सांस ली। कहा कि अब उन्हें रुकी ग्रेच्युटी जल्द मिल सकती है।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top