UTTRAKHAND NEWS

Big breaking:-बीएल संतोष के उत्तराखंड आने पर होने वाला था बड़ा बदलाव , कल तक मदन का हटना था तय लेकिन बच गए , अब महेंद्र बन सकते है कार्यकारी अध्यक्ष , कयासों के बाजार गर्म , क्या कांग्रेस की नकल करेगी बीजेपी

बीजेपी आलाकमान ने उत्तराखंड को लगता है एक्सपेरिमेंट की लैबोरेट्री बना कर रख दिया है जी हां हाल में दो मुख्यमंत्री बदलकर पुष्कर सिंह धामी को मुख्यमंत्री बनाया गया है और वह भी पिछले तीन चार महीने के अंदर ही वही अब प्रदेश अध्यक्ष को बदलने का हल्ला भी बीजेपी में शुरू हो गया आपको बता दे कि जब भी उत्तराखंड में बीएल संतोष आते है तब तब उत्तराखंड में किसी का किसी का बदलाव कर ही जाते हैं

हालांकि सूत्र बताते है कि पार्टी आलाकमान ने जब से प्रदेश अध्यक्ष के रूप में मदन कौशिक को जो मैदान से आते हैं और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी जो कुमाऊँ से आते हैं उन्हें जिम्मेदारी दी तो अंदाजा लगाया जा रहा था कि गढ़वाल के नेतृत्व की अनदेखी के बात उठेगी और वैसा हुआ भी बुधवार को जब संघ और बीजेपी के बीच समन्वय बैठक हुई तो और उसके बाद देर रात तक बैठक चलती रही तो इस बात की चर्चा हुई की गढ़वाल के विधायक नाराज हैं विधायकों ने अपनी नाराजगी जताते हुए यह भी कहा कि अगर गढ़वाल की उपेक्षा हुई तो पार्टी को चुनाव में नुकसान हो सकता है

इसके पीछे एक बड़ा कारण यह भी बताया गया क्योंकि कांग्रेस ने गढ़वाल से अपने प्रदेश अध्यक्ष के रूप में गणेश गोदियाल को जिम्मेदारी सौंपी है उसके बाद से गढ़वाल में इस बात को लेकर बीजेपी के नेताओं ने उपेक्षा का गाना गाना शुरू कर दिया सूत्र बताते हैं विधायकों की नाराजगी की बात इतनी उठी कि कल यह लगभग तय हो गया था की प्रदेश अध्यक्ष के पद से मदन कौशिक को हटाकर गढ़वाल से महेंद्र भट्ट को प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंप दी जाए हालांकि देर रात तक चली बैठक में मदन कौशिक काफी हद तक खुद को हटाने को लेकर पार्टी के संभावित फैसले को टालने में कामयाब हो गए

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-देहरादून चारधाम यात्रा से जुड़ी बड़ी खबर वाहन संचालन के लिए आरटीओ ने जारी की नियमावली

वही अब सूत्र बता रहे हैं कि मदन कौशिक को नहीं हटाया जाएगा बल्कि कॉन्ग्रेस की तरह है भाजपा भी उत्तराखंड में कार्यकारी अध्यक्ष का फार्मूला अपना सकती है उम्मीद यह है कि गढ़वाल से महेंद्र भट्ट को कार्यकारी अध्यक्ष की जिम्मेदारी पार्टी सौंप सकती है लेकिन अभी पार्टी के अंदर और बीएल संतोष जो राष्ट्रीय संगठन महामंत्री हैं उन तक ही यह बात चल रही है अभी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी बातचीत होगी उसके बाद ही यह तय हो पाएगा कि भाजपा की आगे की रणनीति क्या है

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-रोजगार पर केजरीवाल का बंपर ऑफर , सत्ता में आये तो युवाओं को मिलेगा ये

लेकिन इतना तय है कि कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष की रणनीति ने भाजपा में भी खलबली मचाई हुई है भले ही बीजेपी के प्रदेश प्रभारी दुष्यंत गौतम कार्यकारी अध्यक्षों को बनाने को लेकर कांग्रेस को कोस रहे हो लेकिन संभावना यह जताई जा रही है कि अगर मदन कौशिक को नहीं हटाया गया तो गढ़वाल से कार्यकारी अध्यक्ष बनाकर बीजेपी भी कांग्रेस का अनुसरण कर सकती है

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-चार धाम यात्रा शुरू स्थानीय श्रद्धालु पहुँचे , केदारनाथ के लिए गौरीकुंड से 342 श्रद्धालु रवाना हो चुके

हालांकि किसी ने ठीक ही कहा है कि बीजेपी में कुछ भी तय हो जाए लेकिन अंतिम समय तक विश्वास नहीं किया जा सकता जब तक इसकी घोषणा पक्के तौर पर ना हो जाए क्योंकि बीजेपी के तमाम नेताओं द्वारा लगातार त्रिवेंद्र सिंह रावत के ना हटने की बात की जाती रही लेकिन हुआ क्या सब जानते हैं वही तीरथ सिंह रावत को लेकर भी पार्टी के नेता चुनाव लड़ने की बात करते रहे लेकिन हुआ क्या सब जानते हैं

इस बीच एक चर्चा कैबिनेट के एक मंत्री को हटाने को लेकर भी हुई क्योंकि पार्टी के नेताओं ने इस बात को लेकर भी बात कही कि कांग्रेस से आए नेता जिस तरह से प्रदेश में सरकार में शामिल हैं उनके द्वारा पार्टी कार्यकर्ताओं को तवज्जो नही दी जा रही बल्कि कांग्रेस की संस्कृति को भी बीजेपी में डालने की कोशिश की गई हालांकि इस मुद्दे पर बहुत ज्यादा चर्चा नहीं हुई ।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top