UTTRAKHAND NEWS

Big breaking :-व्यासी जलविद्युत परियोजना को लेकर हुई बड़ी चूक, किसानो पर पड़ रही भारी

व्यासी जलविद्युत परियोजना के डैम साइट में एकत्रित हो रहे यमुना के पानी के चलते आजादी से पूर्व अंग्रेजों द्वारा निर्मित कटापत्थर सिंचाई नहर को पानी नहीं मिल पा रहा है इस सिंचाई नहर को विकासनगर क्षेत्र की हजारों हेक्टेयर भूमि की लाइफ़ लाइन कहा जाता है। यमुना नदी में व्यासी परियोजना के चलते आज की तारीख में यमुना की धारा पूरी तरह से प्रभावित हो चुकी है। व्यासी परियोजना के डैम से दो चार घंटे के लिये ही नदी में पानी छोड़ा जा रहा है जिसके चलते कटापत्थर सिंचाई नहर को नदी से पानी नहीं मिल पा रहा है वर्तमान में विकासनगर क्षेत्र कि हजारों हेक्टेयर भूमि सिंचाई से वंचित हो रही है

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking :-कावड़ यात्रा को लेकर सरकार तैयार, मंत्री सुबोध उनियाल के निर्देश, कांवड यात्रा शुरू होने से पहले पूरी हो तैयारियां

 

किसान आगामी दिनों में लगाई जाने वाली धान की फसल को लेकर चिंतित हैं बहरहाल कृषि क्षेत्र में आये इस बड़े संकट का कोई समाधान नहीं दिख रहा है। विधायक मुन्ना चौहान से लेकर तमाम संबंधित अधिकारी वैकल्पिक व्यवस्था के लिये हाथ पैर चला रहे हैं लेकिन कोई विकल्प नहीं निकल पा रहा है। माना जा सकता है कि व्यासी जलविद्युत परियोजना को लेकर ये एक बड़ी चूक हुई है समय रहते इस और किसी ने कोई ध्यान ही नहीं दिया जिसके चलते अबेक बड़ा संकट खड़ा हो गया है।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking :-हरीश रावत को हराने वाले विधायक जी अपने भाई को ही नहीं जीता सके

कटा पत्थर नहर: पश्चिमी क्षेत्रों को सिंचाई के लिए जल उपलब्ध करवाने केउद्देश्य से 1840 में इस नहर का निर्माण शुरू हुआ, जो 1854 में बनकर तैयार हुई। 26 किमी लंबी इस नहर से कटा पत्थर, पिरथीपुर, लाखनवाला, फतेहपुर, तेलपुरा, ढकरानी, बादामावाला, भोजावाला आदि तमाम क्षेत्रों को पानी उपलब्ध करवाया जाता है।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 गूगल न्यूज़ ऐप पर फॉलो करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top