CHAMOLI NEWS

Big breaking:-20 नवम्बर को बद्रीनाथ धाम के कपाट हो जाएंगे बंद , ये हो रही तैयारी

बदरीनाथ की महाभिषेक पूजा के बाद शीतकाल में वेद ऋचाओं का पाठ बंद हो गया। वेद उपनिषदों को सम्मानपूर्वक मंदिर संरक्षण में रखा गया। बदरीनाथ के धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल ने बताया कि वेद मंत्रों की ऋचाओं की प्राचीन आठ शैलियां हैं।

 

 

 

वेद मंत्रों की प्राचीन शैली में ही आज भी बदरीनाथ धाम में वेद पाठ होते हैं। प्रतिदिन भगवान बदरीनाथ को वेद मंत्रों का एक अध्याय अर्पित किया जाता है। ग्रीष्मकाल में छह माह तक धाम में इन अध्यायों को पांच बार पढ़ने की परंपरा है। यह परंपरा आदि गुरु शंकराचार्य ने शुरू की थी। देवस्थानम बोर्ड के मीडिया प्रभारी डा. हरीश गौड़ ने बताया कि बदरीनाथ धाम में बृहस्पतिवार को धार्मिक परंपरा के अनुसार खडग पुस्तक पूजन के बाद वेद ऋचाओं का वाचन बंद हो गया। 19 नवंबर को माता लक्ष्मी का आह्वान और कढ़ाई भोग का आयोजन किया जाएगा और 20 को बदरीनाथ धाम के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए जाएंगे।

 

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-किशोर उपाध्याय ने कांग्रेस आलाकमान को भेजी अपनी सफाई , कहा कांग्रेस का सिपाही हूँ आगे भी रहूँगा

 

 

इस मौके पर रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी, देवस्थानम बोर्ड के उप मुख्य कार्यकारी अधिकारी बीडी सिंह, धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल, सुनील तिवारी, दफेदार कृपाल सनवाल के साथ ही कई तीर्थयात्री मौजूद थे। 1479 तीर्थयात्रियों ने किए बदरीनाथ धाम के दर्शन

यह भी पढ़ें👉  Big breaking:-उत्तराखंड पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स और एंटी साइबर क्राइम टीमों ने पंजाब में जाकर की ये बड़ी कार्यवाही

 

 

 

बृहस्पतिवार को 1479 तीर्थयात्रियों ने भगवान बदरीनाथ के दर्शन किए। अभी तक 185848 तीर्थयात्री बदरीनाथ धाम के दर्शन कर चुके हैं। केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट शीतकाल के लिए बंद हो चुके हैं, जबकि बदरीनाथ धाम के कपाट 20 नवंबर को शीतकाल के लिए बंद कर दिए जाएंगे।

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top