UTTRAKHAND NEWS

Big breaking :-उत्तराखंड में ट्रैकरों की सुरक्षा के लिए बनेगी ट्रैकिंग नीति, एवलॉन्च से पहले का एक वीडियो हो रहा सोशल मीडिया में वायरल देखिए

Ad

द्रौपदी का डांडा (डीकेडी) चोटी पर हुए हिमस्खलन (एवलांच) की चपेट में मरने वालों की संख्‍या अब 19 हो गई है। नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (निम) ने की 19 लोगों की मृत्यु की आधिकारिक पुष्टि की है। वही सोशल मीडिया में एक वीडियो वायरल हो रहा हैं जिसमे पर्वतरोही पहाड़ में आरोहन कर रहें हैं और एक महिला पर्वतरोही वीडियो बना रही हैं कहा जा रहा हैं कि ये वीडियो avlonch आने से पहले का हैं

अभी भी 10 प्रशिक्षु पर्वतारोही लापता हैं। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल ने बताया कि द्रौपदी का डांडा क्षेत्र में 10 लापता प्रशिक्षु पर्वतारोहियों की तलाश के लिए खोज बचाव टीम जुटी हुई है।

 

उत्तराखंड में ट्रैकरों की सुरक्षा के लिए बनेगी ट्रैकिंग नीति, पंजीकरण के साथ दिया जाएगा सेटेलाइट फोनउत्तराखंड में ऊंची चोटियों की चढ़ाई करने वाले ट्रैकरों और ट्रैकिंग करने वाले पर्यटकों की सुरक्षा के लिए सरकार ट्रैकिंग नीति बना रही है। पर्यटन विभाग की ओर से नीति का प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है।

 

 

नीति में ट्रैकरों के पंजीकरण के साथ ही दल के लीडर को एक सेटेलाइट फोन भी दिया जाएगा।जिससे पर्वतारोहण दल के किसी मुश्किल में फंसने या लापता होने की स्थिति में आसानी से लोकेशन का पता लग सकेगा। इसके अलावा पोर्टरों को प्रशिक्षण और अनुभव के आधार पर लाइसेंस देने के लिए नीति में प्रावधान किया जा रहा है।प्रदेश में हर साल देश दुनिया के पेशेवर ट्रैकरों के अलावा साहसिक पर्यटन में रुचि रखने वाले पर्यटक ट्रैकिंग के लिए आते हैं। कई बार पर्वतारोहण दल के साथ घटनाएं हुई हैं। अब सरकार ट्रैकिंग के लिए आने वाले पर्यटकों और ट्रैकरों की सुरक्षा के लिए नीति बना रही है। वर्ष 2003-04 में पर्वतारोहण के लिए गाइडलाइन बनाई थी।

जो पेशेवर ट्रैकरों के लिए ही लागू थी। वर्तमान में सरकार का विशेष ध्यान साहसिक पर्यटन को बढ़ावा देने पर है। जिससे बाहरी क्षेत्रों के पर्यटक ट्रैकिंग के लिए उत्तराखंड आ रहे हैं। ट्रैकिंग के लिए प्रदेश में अभी कोई नीति नहीं है। ट्रैकिंग करने वाले पर्यटक बिना किसी सूचना के ही ट्रेक रूट पर निकल जाते हैं। कोई हादसा होने पर सरकार व प्रशासन के पास भी ट्रैकिंग दल का कोई ब्योरा नहीं रहता है।

Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 गूगल न्यूज़ ऐप पर फॉलो करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top