UTTRAKHAND NEWS

Big breaking :-पी०के०धारीवाल के यें हैं निलंबन आदेश जानिए क्या लगे आरोप

पी०के०धारीवाल, प्रधानाचार्य श्रेणी-1 राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान हरिद्वार में तैनात है। कार्यालय आदेश संख्या – 545 / XLI-B-1 / 21-37 (प्रशि0) / 2017 टीसी, दिनाँक 01.06.2022 द्वारा श्री पी०के०धारीवाल प्रधानाचार्य श्रेणी-1 का राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान महिला, देहरादून में किये गये सम्बद्धीकरण को निरस्त करते हुए उनकी मूल तैनाती स्थान राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, अल्मोड़ा से राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, पिथौरागढ़ में स्थानान्तरण किया गया था, किन्तु श्री धारीवाल द्वारा शासनादेशों की अवहेलना करते हुए तत्समय राजकीय औद्योगिक संस्थान, पिथौरागढ़ में कार्यभार ग्रहण नहीं किया गया और दिनाँक 28.07.2022 तक बिना अनुमति के अनाधिकृत अवकाश पर रहे। श्री धारीवाल द्वारा शासकीय आदेशों का अनुपालन न करने के दृष्टिगत प्रशिक्षण निदेशालय के पत्र संख्या – 4943 / डीटीईयू / 0104 / स्था0/ वेतनआ०/ 2022, दिनांक 23.06.2022 द्वारा अग्रिम आदेशों तक वेतन बिना निदेशालय के अनुमति के आहरित न किये जाने के आदेश दिये गये

2 कार्यालय आदेश संख्या-914 / XLI-B-1 / 2022-E-28876/22, दिनाँक 29.07.2022 द्वारा श्री पी० के०धारीवाल प्रधानाचार्य श्रेणी-1 का राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, पिथौरागढ़ से स्थानान्तरण राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, हरिद्वार में किया गया, जिसके क्रम में उनके द्वारा दिनांक 30.07.2022 को कार्यभार ग्रहण किया गया। श्री धारीवाल द्वारा निदेशालय स्तर से दिनांक 23.06.2022 को लगायी गई रोक के विपरीत समस्त वित्तीय नियमों एवं प्रक्रियाओं का उल्लंघन करते हुए राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, हरिद्वार के कार्यालय आदेश संख्या- स्था० / वेतन भुगतान / पी०के०धारीवाल / 2022 / 3539-45 दिनांक 08.08.2022 के द्वारा स्वंय के हस्ताक्षर से अपने ही वेतन भुगतान के स्वीकृति आदेश जारी कर हरिद्वार कोषागार से जून और जुलाई का रोका गया वेतन अवैधानिक रूप से आहरण कर लिया गया। निदेशालय स्तर से रोके गये अपने वेतन को बिना निदेशक की अनुमति प्राप्त किये अपने ही कार्यालय आदेश के माध्यम से वित्तीय आहरण कर अनियमितता की गयी है

3 श्री पी०के०धारीवाल, प्रधानाचार्य श्रेणी-1, राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, हरिद्वार को निदेशक, प्रशिक्षण एवं सेवायोजन उत्तराखण्ड, हल्द्वानी नैनीताल के पत्र संख्या-6835/डीटीईयू / स्था० / आख्या / पी०के०धारीवाल / 2022, दिनांक 17 अगस्त, 2022 द्वारा प्रदत्त उपरोक्त आख्या एवं संस्तुति पर सम्यक् विचारोपरान्त उत्तराखण्ड सरकारी सेवक (अनुशासन एवं अपील) नियमावली, 2003 यथा संशोधित 2010 के अधीन अनुशासनिक जांच प्रस्तावित होने

क्रम में उत्तराखण्ड सरकारी सेवक (अनुशासन एवं अपील) नियमावली, 2003 के नियम -4 में विहित

प्राविधानों के अधीन श्री पी०के०धारीवाल को तत्काल प्रभाव से निलम्बित किया जाता है । 4 निलम्बन की अवधि में श्री पी०के०धारीवाल, प्रधानाचार्य श्रेणी-1 को वित्तीय नियम संग्रह खण्ड – 2 से 4 के मूल नियम 53 के प्राविधानों के अनुसार जीवन निर्वाह भत्ते की धनराशि अर्द्ध वेतन पर देय अवकाश वेतन की राशि के बराबर देय होगी तथा उन्हें जीवन निर्वाह भत्ते की धनराशि पर मंहगाई भत्ता, यदि ऐसे अवकाश वेतन पर देय है, भी अनुमन्य होगा किन्तु ऐसे कार्मिक को जीवन निर्वाह के साथ कोई महंगाई भत्ता देय नहीं होगी, जिन्हें निलम्बन से पूर्व प्राप्त वेतन के साथ मंहगाई भत्ता अथवा महंगाई भत्ते का उपांतिक समायोजन प्राप्त नहीं था निलम्बन के दिनांक को प्राप्त वेतन के आधार पर अन्य प्रतिकर भत्ते भी निलम्बन की अवधि में इस शर्त पर देय होंगे, जब इसका समाधान हो जाय कि उनके द्वारा उस मद में व्यय वास्तव में किया जा रहा है, जिसके लिए उक्त प्रतिकर भत्ते अनुमन्य है ।

5 उपरोक्त प्रस्तर-4 में उल्लिखित मदों का भुगतान तभी किया जायेगा, जबकि श्री पी०के०धारीवाल, प्रधानाचार्य श्रेणी-1 इस आशय का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करे कि वह किसी अन्य सेवायोजन, व्यापार, वृत्ति व्यवसाय में नहीं लगे है ।

6 निलम्बन की अवधि में श्री पी०के०धारीवाल निदेशालय हल्द्वानी नैनीताल के कार्यालय में सम्बद्ध रहेंगे तथा शासन के पूर्वानुमति के बिना मुख्यालय नहीं छोड़ेंगे।

Ad

लेटेस्ट न्यूज़ अपडेट पाने के लिए -

👉 न्यूज़ हाइट के समाचार ग्रुप (WhatsApp) से जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट से टेलीग्राम (Telegram) पर जुड़ें

👉 न्यूज़ हाइट के फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 गूगल न्यूज़ ऐप पर फॉलो करें


अपने क्षेत्र की ख़बरें पाने के लिए हमारी इन वैबसाइट्स से भी जुड़ें -

👉 www.thetruefact.com

👉 www.thekhabarnamaindia.com

👉 www.gairsainlive.com

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top